NRC के मुद्दे पर JDU में दो फाड़, BJP बोली- बिहार में भी लालू होगा एनआरसी

मंगलवार को विपक्ष ने सरकार को घेरने के लिए एनआरसी का मुद्दा चुना. एनआरसी के मुद्दे पर सदन के अंदर और बाहर विपक्ष दलों ने एकजुटता के साथ कानून का विरोध किया. 

NRC के मुद्दे पर JDU में दो फाड़, BJP बोली- बिहार में भी लालू होगा एनआरसी
JDU नेताओं ने किया एनआरसी का समर्थन.

पटना: एनआरसी के मुद्दे पर जनता दल यूनाइटेड (JDU) दो भागों में बंट गई है. जेडीयू का एक हिस्सा एनआरसी के समर्थन में दिख रहा है वहीं, दूसरा हिस्सा एनआरसी के विरोध में. मंगलवार को एनआरसी के मुद्दे पर जेडीयू में उभरे मतभेद के बाद बीजेपी ने दावा किया है कि बिहार में भी एनआरसी लागू होगा. एनआरसी के मुद्दे पर बिहार में सियासी परवान चढ़ गई है.

मंगलवार को विपक्ष ने सरकार को घेरने के लिए एनआरसी का मुद्दा चुना. एनआरसी के मुद्दे पर सदन के अंदर और बाहर विपक्ष दलों ने एकजुटता के साथ कानून का विरोध किया. नीतीश कुमार से एनआरसी के मुद्दे पर विपक्ष ने जवाब भी मांगा.

विपक्षी विरोध के बहाने एनआरसी के मुद्दे पर जेडीयू के भीतर चल रहे मतभेद भी सतह पर आ गये हैं. एनआरसी लागू करने को लेकर जेडीयू में मतभेद सामने आ गया है. जेडीयू कोटे के मंत्री मदन सहनी ने खुलकर एनआरसी के समर्थन में बयान दिया है. मदन सहनी ने कहा है कि जो बाहरी हैं उन्हें देश में रहने का अधिकार कैसे है. केन्द्र सरकार जो फैसला ले रही है, हम उसके साथ हैं.

वहीं, जेडीयू के दूसरे नेता अल्पसंख्यक कल्याण विभाग के मंत्री खुर्शीद अहमद ने भी एनआरसी के समर्थन में बयान दे दिया है. हलांकि खुर्शीद अहमद पहले रिपोर्ट के सवाल को टालते रहे. सवालों से बचने की कोशिश करते रहे. लेकिन अंत में दिल की बात जुबान पर आ ही गयी. मंत्री खुर्शीद अहमद ने कहा कि पाकिस्तान, नेपाल और अमेरिका के लोगों को कैसे अपने देश में रहने दिया जा सकता है. दूसरे देश का शाख्स कैसे अपने देश में रह सकता है? हम संविधान में विश्वास रखते हैं. मामले को पार्टी से जोड़कर देखने की जरुरत नहीं, ये मेरे विचार हैं.

वहीं, जेडीयू नेता बिहार सरकार के मंत्री अशोक चौधरी ने एनआरसी का विरोध कर दिया है. अशोक चौधरी ने कहा है कि एनआरसी के मुद्दे पर हमारी पार्टी का स्टैंड क्लीयर है. हम एनआरसी लागू करने के पक्ष में नहीं.

जेडीयू में एनआरसी को लेकर उभरे मतभेद से आरजेडी काफी सुकून महसूस कर रहा है. आरजेडी विधायक राजेन्द्र राम ने कहा है कि जेडीयू में उभरे मतभेद से ये बात साफ है कि जेडीयू में एक तबका ऐसा है जो देश में अमन की चाहत रखता है. लेकिन नीतीश कुमार के डर के कारण वो खुलकर नहीं बोल पा रहे हैं.

वहीं, बीजेपी एनआरसी के मुद्दे पर जेडीयू में हुए बिखराव को खुद के लिए पॉजिटिव संकेत मान रही है. पार्टी के बिहार उपाध्यक्ष मिथिलेश तिवारी ने कहा है कि एनआरसी के मुद्दे पर उन्हें जेडीयू का साथ मिलेगा. मिथिलेश तिवारी ने कहा है कि धारा 370 का मामला हो राम मंदिर का मामला हो बीजेपी को जेडीयू का साथ मिला है. यह बात अलग है कि जेडीयू अपनी बातों को अलग तरह से रखती है. लेकिन बीजेपी को जेडीयू का साथ मिलता रहा है. वहीं मिथिलेश तिवारी ने अपने सहयोगी दलों को ये कहकर चेता भी दिया है कि बीजेपी अपने सहयोगी दलों के दवाब में आकर अपने मुद्दे कभी नहीं बदलती. ऐसे में एनआरसी पर सपोर्ट करना ही सहयोगी दलों के लिए बेहतर होगा.