close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बिहार: MP किंग महेंद्र के बेटे ने लगाया मां को बंधक बनाने का आरोप, सेक्रेटरी पर जताया शक

रंजीत शर्मा ने अपने पिता की सचिव उमा देवी पर उनकी मां को एक फार्महाउस में बंधक बनाकर रखने और उनके पिता से नहीं मिलने देने का आरोप लगाया है.

बिहार: MP किंग महेंद्र के बेटे ने लगाया मां को बंधक बनाने का आरोप, सेक्रेटरी पर जताया शक
बेटे ने आरोप लगाया है कि सांसद की सेक्रेट्री उमा देवी ने मां को बंधक बनाकर रखा हुआ है

पटना: बिहार के जेडीयू के राज्यसभा सांसद डॉ महेंद्र प्रसाद के बेटे रंजीत शर्मा ने अपने पिता की सचिव उमा देवी पर उनकी मां को एक फार्महाउस में बंधक बनाकर रखने और उनके पिता से नहीं मिलने देने का आरोप लगाया है.

रंजीत ने मीडिया से बातचीत में कहा कि दो दिन पहले हमें हमारी कंपनी के एक पूर्व कर्मचारी द्वारा बताया गया था कि मेरी मां को एक अन्य वृद्ध महिला के साथ फतेहपुर बेरी के एक फॉर्महाउस में रखा जा रहा है. मैंने फॉर्महाउस में प्रवेश करने की कोशिश की, लेकिन अंदर नहीं जाने दिया गया. यहां तक कि पुलिस फॉर्महाउस में घुसने में असमर्थ थी.

 

बिहार जेडीयू से राज्यसभा सांसद महेंद्र प्रसाद के फतेहपुर बेरी फॉर्म हाउस पर उनके बेटे रंजीत शर्मा की शिकायत पर पुलिस ने छापेमारी की. पुलिस को फॉर्म हाउस में घुसने नहीं दिया गया. रंजीत शर्मा का आरोप है कि उनकी माता और पिता जिनकी उम्र 80 साल है उन्हें बंधक बनाकर रखा गया है. उनको हमसे मिलने नहीं दिया जा रहा है. उन्होंने आरोप लगाया है कि सांसद की सेक्रेट्री उमा देवी ने बंधक बनाकर रखा हुआ है. सांसद महेंद्र प्रसाद अपने सरकारी आवास 8 सफदरजंग लेन में रह रहे हैं. वहां भी उन्हें मिलने नहीं दिया जा रहा है.

कौन है महेंद्र सिंह 
महेंद्र सिंह देश के सबसे अमीर सांसदों में से एक हैं. इस घटना पर महेंद्र सिंह ने कहा कि मैं पुलिस की मदद ले रहा हूं और आज भी उन्हें अनुमति नहीं दी गई. मैं सभी कानूनी विकल्पों पर विचार कर रहा हूं. गौरतलब है कि किंग महेंद्र दो फार्मास्यूटिकल कंपनी मैप्रा लेबोरेटरीज प्राइवेट लिमिटेड और अरिस्टो फार्मास्यूटिकल के मालिक हैं. 

किंग महेंद्र ने 1980 में पहली बार जहानाबाद लोकसभा सीट से कांग्रेस की टिकट पर चुनाव जीत कर संसद में प्रवेश किया था मगर 1984 में राजीव गांधी की हत्या के बाद हुए लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की लहर होने के बाद भी वह नहीं जीत पाए थे. मूलरुप से बिहार के जहानाबाद के गोविंदपुर गांव रहने वाले हैं. किंग महेंद्र कारोबार कई देशों में फैला हुआ है.