बिहार: JDU ने फिर जारी किया पोस्टर, लालू-राबड़ी के शासन पर साधा निशाना

पटना में आरजेडी के खिलाफ एक पोस्टर जेडीयू समर्थकों द्वारा लगाया गया है. यह पोस्टर लालू यादव और राबड़ी देवी की सरकार में हुई घटनाओं को लेकर जारी किया गया है.

बिहार: JDU ने फिर जारी किया पोस्टर, लालू-राबड़ी के शासन पर साधा निशाना
बिहार में 'पोस्टर पॉलिटिक्स' की इंट्री तो साल के शुरूआत में ही शुरू हो गई थी.

पटना: बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Vidhansabha Chunav 2020) से पूर्व राजनीतिक सरगर्मी तेज हो गई है. इस सियासी खेल में अपने विरोधियों पर निशाना साधने के लिए दल, अब पोस्टर का भी सहारा ले रहे हैं. हालांकि, बिहार में 'पोस्टर पॉलिटिक्स' की इंट्री तो साल के शुरूआत में ही शुरू हो गई थी. लेकिन बीच में मंद पड़ी राजनीति को, अब फिर से पोस्टर के जरिए रफ्तार देने का काम शुरू किया गया है.

इस बार फिर सत्तारूढ़ दल के समर्थकों ने एक पोस्टर जारी करके बिहार की सियासी हवा को रफ्तार देने का काम किया है. दरअसल, मंगलवार को राजधानी पटना में आरजेडी के खिलाफ एक पोस्टर जेडीयू समर्थकों द्वारा लगाया गया है. यह पोस्टर लालू यादव और राबड़ी देवी की सरकार में हुई घटनाओं को लेकर जारी किया गया है.

इसमें पति-पत्नी की सरकार पोस्टर का थीम है. साथ ही पोस्टर में लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav), राबड़ी देवी (Rabri Devi) के साथ राजबल्लभ और शहाबुद्दीन को भी जगह दी गई है. इसमें 15 सालों में अपहरण, बलात्कार, रंगदारी, घोटाला, गुंडागर्दी, हत्या और लूट का जिक्र पोस्टर में किया गया है. पोस्टर में लिखा है कि, 'सौदागरों को लज्जा भी भलो क्यों, उनके लिए व्यापार थी सरकार.'

इधर, जेडीयू की तरफ से जारी पोस्टर अब आरजेडी ने भी पलटवार किया है. आरजेडी प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी ने कहा कि, 2020 विधानसभा चुनाव के बाद जेडीयू नेता पोस्टर ही लगते रह जाएंगे. जनता के दिलों तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) का पोस्टर लगा हुआ है.

मृत्युंजय तिवारी ने कहा कि, 'भय बनाम भरोसा' नहीं, 'भीतरघात बनाम गरीबों का सम्मान' और बिहार के हक की बात होगी. उन्होंने कहा कि, 55 घोटाले 15 वर्ष में हुआ, उसका जवाब जेडीयू के नेता क्यों नहीं देते हैं.