चुनावी साल में JDU ने शुरू की खरीद-फरोख्त की सियासत: वंचित समाज पार्टी

ललन सिंह ने कहा, 'बिहार में एनडीए की नेतृत्व द्वारा लगातार विपक्षी विधायकों, सांसदों को तोड़ने की परंपरा रही है. इसका क्षणिक लाभ तो मिल सकता है, लेकिन जनता सब जानती है.'

चुनावी साल में JDU ने शुरू की खरीद-फरोख्त की सियासत: वंचित समाज पार्टी
वंचित समाज पार्टी के उपाध्यक्ष ललित सिंह ने जेडीयू पर निशाना साधा है.

पटना: वंचित समाज पार्टी के उपाध्यक्ष ललित सिंह ने बुधवार को राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के पांच विधान परिषद के सदस्यों के त्यागपत्र देकर जेडीयू में शामिल होने पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) को आड़े हाथों लिया.

उन्होंने कहा कि, चुनावी साल में मुख्यमंत्री ने सत्ता में बने रहने के लिए फिर से खरीद-फरोख्त की सियासत प्रारंभ कर दी है. पटना में एक संवाददाता सम्मेलन में सिंह ने ऐसे कायरे को अनैतिक और अलोकतांत्रिक बताते हुए कहा कि, नीतीश की राजनीति प्रारंभ से ही खरीद-फरोख्त पर आधारित रही है.

उन्होंने कहा, 'सत्ता के लिए नीतीश कभी आरजेडी के साथ हों जाएंगें तो, कभी बीजेपी (BJP) के साथ हो जाएंगें. कभी जीतन राम मांझी (Jitan Ram Manjhi) को मुख्यमंत्री बना देंगे तो, काम निकल जाने के बाद उन्हें बेइज्जत कर कुर्सी से उतार देंगें.'

उन्होंने आगे कहा, 'बिहार में एनडीए की नेतृत्व द्वारा लगातार विपक्षी विधायकों, सांसदों को तोड़ने की परंपरा रही है. इसका क्षणिक लाभ तो मिल सकता है, लेकिन जनता सब जानती है.'

सिंह ने नीतीश कुमार को चुनौती देते हुए कहा कि, कोई भी उपाय कर लें. लेकिन इस साल होने वाले विधानसभा चुनाव में नीतीश की पार्टी की हार तय है. उन्होंने कहा कि, इस बार मुकाबला आरजेडी से नहीं बल्कि तीसरे मोर्चा से होने वाला है.

उन्होंने नीतीश पर भ्रष्टाचार को बढ़ावा देने का आरोप लगाते हुए कहा कि, नीतीश कुमार का स्थान अब लालू प्रसाद (Lalu Prasad) के बगल में है. उन्होंने सभी दलों से स्वस्थ लोकतंत्र के लिए कर्मठ और प्रतिबद्घ कार्यकर्ता को ही तरजीह दिए जाने की अपील की.