close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

विधानसभा चुनाव: बाबूलाल मरांडी के 'एकला चलो' के ऐलान से गरमाई झारखंड की सियासत

जेएमएम प्रवक्ता ने कहा कि यह सिर्फ नेताओं और दलों का गठबंधन नहीं है. हम चाहते हैं कि जनता की पुकार और मनोभावना के अनुरूप गठबंधन हो. जनता की भावनाओं के अनुरूप काम नहीं करेंगे तो झारखंड की जनता हमें माफ नहीं करेगी. 

विधानसभा चुनाव: बाबूलाल मरांडी के 'एकला चलो' के ऐलान से गरमाई झारखंड की सियासत
बाबूलाल मरांडी के ऐलान से गरमाई झारखंड की सियासत. (फाइल फोटो)

सौरभ शुक्ला, रांची: झारखंड विकास मोर्चा (JVM) सुप्रीमो बाबूलाल मरांडी ने सभी 81 विधानसभा सीटों पर चुनाव लड़ने का ऐलान कर दिया है. ऐसे में झारखंड की सियासत गरमा गई है. झारखंड मुक्ति मोर्चा (JMM) प्रवक्ता मनोज पांडेय ने कहा कि बाबूलाल मरांडी अपनी पार्टी के सर्वमान्य नेता हैं. उनका फैसला उनके विवेक पर निर्भर करता है. अभी भी हेमंत सोरेन का प्रयास है कि वो हमारे साथ आएं.

जेएमएम प्रवक्ता ने कहा कि यह सिर्फ नेताओं और दलों का गठबंधन नहीं है. हम चाहते हैं कि जनता की पुकार और मनोभावना के अनुरूप गठबंधन हो. जनता की भावनाओं के अनुरूप काम नहीं करेंगे तो झारखंड की जनता हमें माफ नहीं करेगी. अभी भी प्रयास जारी है और हमें लगता कि बाबूलाल मरांडी महागठबंधन के साथ आएंगे.

वहीं, कांग्रेस प्रवक्ता शमशेर आलम ने कहा कि अभी भी बाबूलाल मरांडी, हेमंत सोरेन और कांग्रेस के बीच बातचीत चल रही है. कांग्रेस भी गठबंधन की पक्षधर रही है. एक तालमेल और समन्वय के साथ सभी एकजुट रहें. जिस पार्टी का उम्मीदवार जहां जीत सकता है उसको चुनाव में उतारा जाए. उन्होंने कहा कि अभी जेवीएम से बातचीत खत्म नहीं हो गई है. हमें इंतजार करना चाहिए.

वहीं भारतीय जनता पार्टी (BJP) प्रवक्ता दीनदयाल वर्णवाल ने इस पर चुटकी लेते हुए कहा कि बाबूलाल मरांडी पांच बार चुनाव हार गए. उन्हें तो याद भी नहीं होगा कि वो कब चुनाव जीते थे. सभी कार्यकर्ताओं में घबराहट है. ऐसे में 81 विधानसभा सीटों पर चुनाव लड़ने का दंभ भरना उन्हें 23 दिसंबर को मालूम चल जाएगा.