AJSU का दामन थामने के बाद मुसाबनी पहुंचे प्रदीप बालमुचू, कार्यकर्ताओं को किया संबोधित

मुसाबनी दौरे पर बालमुचू ने कहा की झारखंड स्थापना के 19 साल हो गए हैं. यह समय है की इसकी समीक्षा होनी चाहिए कि हमने क्या खोया और क्या पाया. जनता चुनाव में इसका ऑडिट करती है.

AJSU का दामन थामने के बाद मुसाबनी पहुंचे प्रदीप बालमुचू, कार्यकर्ताओं को किया संबोधित
पूर्व विधायक प्रदीप बालमुचू घाटशिला के मुसाबनी में अपने समर्थकों से मिलने पहुंचे. (फाइल फोटो)

घाटशिला: आजसू पार्टी का दमन थामने के बाद घाटशिला के पूर्व विधायक प्रदीप बालमुचू घाटशिला के मुसाबनी में अपने समर्थकों से मिलने पहुंचे. मुसाबनी पहुंचने पर प्रदीप बालमुचू के समर्थकों ने उनका जोरदार ढंग से स्वागत किया. इस मौके पर उन्होंने समाज के प्रबुद्ध लोगों से भी मुलाकात की.

मुसाबनी दौरे पर बालमुचू ने कहा की झारखंड स्थापना के 19 साल हो गए हैं. यह समय है की इसकी समीक्षा होनी चाहिए कि हमने क्या खोया और क्या पाया. जनता चुनाव में इसका ऑडिट करती है.

प्रदीप बालमुचू ने कहा कि झारखंड के साथ बनने वाले छत्तीसगढ़ और उतराखंड में जिस गति से विकास हुआ, वैसा झारखंड में नहीं हो पाया. इसका सारा श्रेय भारतीय जनता पार्टी (BJP) को जाती है. क्योंकि 19 साल के काल खंड में एक दो साल को छोड़कर राज्य की बागडोर बीजेपी ने ही संभाली है. बलमुचू ने कहा कि झारखंड के निर्माण के लिए हमने बिहार सरकार में मंत्री पद को ठुकराया था, क्योंकि हमारा उद्देश्य मंत्री रहना या पैसा लेकर अपने आपको बेचना नहीं था. हमार मुद्दा था अलग झारखंड राज्य, लेकिन झारखण्ड मुक्ति मोर्चा (JMM) ने झारखंड के अस्मिता को बेचने का काम किया.

आजसू में जाने के मुद्दे पर बालमुचू ने कहा कि कार्यकर्ताओं का दवाब था चुनाव लड़ना. फिर हमने देखा कि आजसू ने बीजेपी सरकार में रहकर भी झारखंड के मुद्दे पर सरकार का विरोध किया. इसलिए स्थानीय मुद्दों को लेकर चलने वाले अजसू के साथ हम गए हैं.