भाई-बहन ने आपस में की Love Marriage, सजा में परिजनों ने किया 'जिंदा' बच्चों का दाह-संस्कार
X

भाई-बहन ने आपस में की Love Marriage, सजा में परिजनों ने किया 'जिंदा' बच्चों का दाह-संस्कार

Chatra news: घटना से आहत लड़की की मां का रो-रोकर बुरा हाल है. परिजनों का कहना है कि बेटी की करतूत से समाज में उनकी इज्जत को ठेस पहुंची है. इस कारण अब हमलोग गांव-समाज में मुंह दिखाने के लायक नहीं हैं.

 

भाई-बहन ने आपस में की Love Marriage, सजा में परिजनों ने किया 'जिंदा' बच्चों का दाह-संस्कार

Chatra: झारखंड के चतरा में एक अजीबोंगरीब मामला सामने आया है. यहां जिले में रिश्ते की मर्यादा को लांघते हुए चचेरे भाई-बहन ने आपसे में ही शादी रचा ली. भाई-बहन का पवित्र रिश्ते के तार-तार होने के बाद लड़का-लड़की के घरवालों ने जीवित ही दोनों का पुतला बनाकार दाह-संस्कार कर डाला. ऐसी अनोखी घटना घटने के बाद लोग हैरान हैं, वहीं लड़की के परिजन समाज में इज्जत जाने से रो-रो कर परेशान हैं.  

दरअसल, भाई-बहन के पवित्र रिश्ते को तार-तार करने वाला मामला है. टंडवा थाना क्षेत्र के धनगड्डा पंचायत अंतर्गत खरिका गांव का. यहां खरिका गांव की एक युवती ने अपने चचेरे भाई से शादी रचा ली. पवित्र रिश्ते को कंलकित होने के बाद शर्मसार परिवार और समाज के लोगों ने जीवित अवस्था में ही दोनों का पुतला बनाकर अंत्येष्टि कर डाली. गांव के लोगों ने युवती का पुतला बना कर शव यात्रा निकाला और श्मसान घाट ले जाकर उसका दाह-संस्कार कर दिया गया. वहीं, घटना से आहत लड़की के पिता और परिजनों ने दोनों से तमाम रिश्ते समाप्त करने का एलान किया है.

ये भी पढ़ें-Gaya: खेत में आपत्तिजनक स्थिति में पकड़े गए प्रेमी युगल, ग्रामीणों ने मनाया 'उत्सव'

इधर, घटना से आहत लड़की की मां का रो-रोकर बुरा हाल है. परिजनों का कहना है कि बेटी की करतूत से समाज में उनकी इज्जत को ठेस पहुंची है. इस कारण अब हमलोग गांव-समाज में मुंह दिखाने के लायक नहीं हैं. वहीं, लड़की के पिता ने कहा कि उसकी शादी अच्छे घराने में हो रही थी और उसकी सगाई भी हो चुकी थी, लेकिन बेटी को जिल्लत की जिदगी ही मंजूर है.

जानकारी के मुताबिक, खरिका निवासी सुखदेव राम की 25 वर्षीय पुत्री सविता उर्फ किरण कुमारी का लखन राम के पुत्र राजदीप कुमार से प्रेम प्रसंग चल रहा था. दोनों रिश्ते में चचेरे-भाई बहन हैं. परिजनों को दोनों का प्रेम-प्रसंग नागवार गुजरा. जानने के बाद परिजनों ने इस प्रसंग का विरोध किया. लड़का-लड़की के परिजनों ने दोनों को काफी समझाया पर उन दोनों पर उनकी बातों का कोई असर नहीं हुआ. समझाने के बावजूद भी दोनों ने चार महीने पूर्व शादी रचा ली.

ये भी पढ़ें-Bettiah: फेरे से पहले दुल्हन ने किया बड़ा 'कांड', शर्म से दूल्हा बोला-'हाय राम'
 
हालांकि, इसके बावजूद समझाने-बुझाने का दौर चलता रहा. समझाने का कोई असर होता ना देख परिजनों ने बात स्थानीय थाने तक जा पहुंचाई. लेकिन वहां भी लड़की ने अपने पति (चचेरा भाई) राजदीप के साथ जीने-मरने का संकल्प दोहराया. तब जाकर परिजनों ने उसका अंतिम संस्कार कर तमाम रिश्ते को खत्म करने का फैसला लिया.

(इनपुट- यादवेंद्र)

Trending news