झारखंड कांग्रेस में जारी है आपसी मनमुटाव, पार्टी बोली: मौजूदा सूरत-ए-हाल में इरफान संयम बरतें

प्रदेश प्रवक्ता ने तो यहां तक कह दिया कि सुर्खियों में बने रहने के लिए लगातार बयानबाजी कर रहे हैं. मौजदा सूरत-ए-हाल में इरफान संयम बरतें.

झारखंड कांग्रेस में जारी है आपसी मनमुटाव, पार्टी बोली: मौजूदा सूरत-ए-हाल में इरफान संयम बरतें
झारखंड कांग्रेस में जारी है आपसी मनमुटाव, पार्टी बोली: मौजूदा सूरत-ए-हाल में इरफान संयम बरतें.

रांची: राजस्थान के बाद झारखंड कांग्रेस में भी खींचतान व आपसी कलह बढ़ती ही जा रही है. इस बीच कांग्रेस के सह प्रभारी के वापस जाने पर नाराज विधायकों के बयान पर प्रदेश अध्यक्ष रामेश्वर उरांव की बड़ी प्रतिक्रिया सामने आई है. उन्होंने कहा कि  कौन क्या बोलता है, हम नहीं जानते. बोलने का अधिकार सबको है.

उन्होंने कहा कि प्रजातंत्र में कानून सबको मानना चाहिए. डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट के तहत मना किया गया है. उसका पालन सबको करना है, हम सरकार में हैं हम ही नहीं मानेंगे तो दिक्कत हो जाएगा.

इस मामले पर प्रदेश प्रवक्ता शमशेर आलम ने कहा कि इरफान अंसारी लगातार संगठन और सरकार पर टीका टिपण्णी कर रहे हैं, ये सरकार और संगठन के लिए उचित नहीं है. संगठन में हमारे वरिष्ठ नेता हैं, प्रभारी हैं, उनसे अपनी तकलीफ रखें.

प्रदेश प्रवक्ता ने तो यहां तक कह दिया कि सुर्खियों में बने रहने के लिए लगातार बयानबाजी कर रहे हैं. मौजदा सूरत-ए-हाल में इरफान संयम बरतें.

बता दें कि झारखंड कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष इरफान अंसारी व पार्टी के कुछ विधायक झारखंड आलाकमान से नाराज चल रहे हैं. उन्होंने दिल्ली में सोनिया गांधी से मिलने की इच्छा भी जाहिर की है. पिछले दिनों कांग्रेस नेता इरफान अंसारी व पार्टी के कुछ नेता दिल्ली में केंद्रीय स्तर की छवि वाले अहमद पटेल से मिले थे. जहां उन्होंने उन्हें भरोसा दिलाया था कि जल्द ही बैठक के जरिए सबकुछ ठीक कर लिया जाएगा.