अलर्ट मोड पर है सोरेन सरकार, प्रवासी से लेकर मजदूर तक का रखा जा रहा है ख्याल

खाद्य आपूर्ति से संबंधित 1,629,  चिकित्सा संबंधित 401, विधि व्यवस्था से संबंधित 273, झारखंड में फंसे 218 एवं 74 अन्य शिकायतों का समाधान कर लिया गया है. शेष शिकायतों पर जल्द से जल्द कार्रवाई की जा रही है.

अलर्ट मोड पर है सोरेन सरकार, प्रवासी से लेकर मजदूर तक का रखा जा रहा है ख्याल
अलर्ट मोड पर है सोरेन सरकार, प्रवासी से लेकर मजदूर तक का रखा जा रहा है ख्याल.(फाइल फोटो)

रांची: झारखंड सरकार की ओर से झारखंड के सभी लोगों के लिए हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं ताकि वह इस महामारी से बचे रहें और कोई भी व्यक्ति जो झारखंड का हो वह राज्य के बाहर भी भूखे ना रहे. 

इसके साथ ही राज्य में अन्य राज्यों के वे लोग जो लॉकडाउन की वजह से अपने घर वापस नहीं जा सके, उनके लिए भी सरकार हरसंभव प्रयास कर रही है.
 
राज्य स्तरीय कोरोना नियंत्रण कक्ष में अब तक 5937 शिकायतें प्राप्त हुई जिसमें 2,830 शिकायतों का समाधान किया जा चुका है. 

खाद्य आपूर्ति से संबंधित 1,629,  चिकित्सा संबंधित 401, विधि व्यवस्था से संबंधित 273, झारखंड में फंसे 218 एवं 74 अन्य शिकायतों का समाधान कर लिया गया है. शेष शिकायतों पर जल्द से जल्द कार्रवाई की जा रही है.

स्वास्थ्य विभाग द्वारा अधिक से अधिक संदिग्ध व्यक्तियों की पहचान की जा रही है एवं उनका कोविड-19 हेतु टेस्ट किया जा रहा है. इस क्रम में अभी तक 1076 लोगों के सैंपल को टेस्ट किया गया जिसमें 4 लोग पॉजिटिव पाए गए और 912 लोग नेगेटिव मिले हैं अभी भी 160 लोगों का टेस्ट प्रतीक्षा में है.  

बताया जा रहा है कि रांची के 2,  हजारीबाग का 1 और बोकारो के 1 व्यक्ति का कोविड-19 टेस्ट पॉजिटिव पाया गया है. कोरोना से बचाव के लिए राज्य में 3,734 के क्वारंटाइन सेंटर बनाए गए हैं, जिसमें 15,544 लोगों को क्वारंटाइन किया जा रहा है. वही 1,33,435 लोग होम क्वारंटाइन में रह रहे हैं. 

अभी तक 21,250 लोगों ने अपना क्वारंटाइन पूरा कर लिया. 

खाद्य सार्वजनिक वितरण एवं उपभोक्ता मामले विभाग की ओर से अप्रैल का शत प्रतिशत एवं मई का 71.67% अनाज उपलब्ध करा दिया गया है. 1,00,890 लोगों तक विभाग की ओर से अनाज पहुंचा दिया गया है. वहीं नन पीडीएस के तहत 1,05,001 लोगों तक अनाज उपलब्ध करा दिया गया है. 

जानकारी दी गई कि दाल-भात के विभिन्न योजनाओं में अब तक 15,08,794 लोगों को खाना खिलाया जा चुका है. विभाग द्वारा 32,253 लोगों तक विशेष राहत सामग्री के पैकेट पहुंचाये गए हैं. एनजीओ एवं वोलेंटियर की 734 टीमों ने 7,06,570 लोगों को खाना खिलाया है. वहीं प्रवासी मजदूरों के लिए 418  राहत कैम्प में 74,593 मजदूरों को खाना खिलाया जा रहा है.

इसके अलावा  अब तक कुल 13,53,776 पेंशनधारकों को उनका पेंशन दे दिया गया है. 

विभिन्न राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों से अब तक 4,923 जगहों पर 4,74,430 मजदूरों के फंसे होने की सूचना राज्य सरकार को प्राप्त हुई जिनमें से 4552 जगहों पर 3,18,317 मजदूरों के लिए खाने व रहने का बंदोबस्त कर दिया गया है.