close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

झारखंड हाईकोर्ट ने मुनीलाल की भुखमरी पर लिया संज्ञान, धनबाद उपायुक्त से किया जवाब तलब

झारखंड हाईकोर्ट ने धनबाद जिला के कतरास अंगार पथरा के रहने वाले मुनीलाल यादव की भुखमरी की स्थिति पर संज्ञान लिया है. 

झारखंड हाईकोर्ट ने मुनीलाल की भुखमरी पर लिया संज्ञान, धनबाद उपायुक्त से किया जवाब तलब
धनबाद का मुनीलाल भुखमरी को लेकर हाईकोर्ट ने संज्ञान लिया है.

धनबादः झारखंड हाईकोर्ट ने धनबाद जिला के कतरास अंगार पथरा के रहने वाले मुनीलाल यादव की भुखमरी की स्थिति पर संज्ञान लिया है. और धनबाद उपायुक्त को 24 घंटे के अंदर रिपोर्ट हाई कोर्ट के समक्ष प्रस्तुत करने का निर्देश दिया है. जिसके बाद उपायुक्त एक्शन में दिख रहे हैं. हालांकि, अब तक उनकी सुध लेने वाला कोई नहीं था.

कतरास अंतर्गत धनबाद नगर निगम वार्ड संख्या 4 अंगारपथरा निवासी बुजुर्ग मुनिलाल यादव को लगभग दो वर्षों से पीडीएस का अनाज नहीं मिल रहा है. कारण बताया जा रहा है कि मुनील लाल यादव के पीडीएस में राशन लेने के लिए अंगूठे का निशान नहीं मिल पा रहा था.

मुनीलाल को लगभग 2 साल से राशन नहीं मिलने के कारण भुखमरी के कगार पर आ गया था. इस खबर को सभी अखबारों ने प्रमुखता से छापा था. जिसके बाद झारखंड हाईकोर्ट के जस्टिस एक्सी मिश्रा और दीपक रोशन की अदालत ने स्वतः संज्ञान लेते हुए धनबाद उपायुक्त को 24 घंटे के अंदर जवाब तलब किया है.

वहीं, झारखंड हाईकोर्ट के संज्ञान लेने के बाद धनबाद उयायुक्त एक्शन में दिखी और जिले के एमओ अरुण कुमार उसके घर पहुंचकर उसका हाल जाना. साथ ही मुनिलाल को 20 किलो चावल दिया जो फिलहाल के लिए है. वहीं भविष्य में उसका राशन लाल कार्ड के द्वारा वितरण हो इसके लिए पर्याप्त उपाय किये जाने हैं. एमओ महोदय ने कहा कि जिस तरह की तकनीकी कमी हो, उसके बाद भी मुनिलाल को राशन मिले इसका समुचित व्यवस्था किया जाएगा.

वहीं, स्थानीय लोगों की मानें तो ये कई सालों से यहां रह रहे हैं, पहले अपना गुजरा मूंगफली बेचकर कर रहे थे. लेकिन अब वह अपने शरीर से लाचार हो गए हैं. इसलिए वह अब कोई काम नहीं कर पाते हैं. स्थानीय लोग एक-एक कर खाना देते हैं. उनका घर भी था लेकिन अब टूट गया है.