कुत्ते को लगी चोट तो हैवान बन गया परिवार, दो मासूमों को ब्लेड से काटा

Jharkhand Samachar: 6 और 8 साल की दो बहनों को एक घर में काम करने के लिए रखा गया और उनकी दम भर पिटाई की गई. आलम यह है कि वह अस्पताल में भर्ती हैं.

कुत्ते को लगी चोट तो हैवान बन गया परिवार, दो मासूमों को ब्लेड से काटा
हैवानियत की शिकार हुईं दो मासूम बच्चियां. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

Hazaribagh: नाबालिग से काम करवाना कानून अपराध है. इसके बावजूद कई ऐसे लोग हैं जो घरों में नाबालिग बच्चों से काम करवाते हैं. हजारीबाग में बहुत ही गंभीर मामला प्रकाश में आया है, जहां 6 और 8 साल की दो बहनों को एक घर में काम करने के लिए रखा गया और उनकी दम भर पिटाई की गई. आलम यह है कि वह अस्पताल में भर्ती हैं.

हजारीबाग बड़ा बाजार थाना अंतर्गत हुडहुडु बाबा पथ की विद्या विहार कॉलोनी में रहने वाली आशा चौधरी के घर में दो नाबालिग बच्ची के साथ क्रूरता की हद पार कर दी गई. दरअसल, आशा चौधरी घर में दो नाबालिग बच्चियों से पिछले 3 महीने से काम करवा रहीं थीं. उनमें से बड़ी बच्ची जिसकी उम्र 8 वर्ष है उसके साथ क्रूरता की सभी हदें पार करते हुए मारपीट की गई.

ये भी पढ़ें- Danapur: संपत्ति विवाद में kidnap कर भाई ने की भाई की हत्या, सब 'हैरान'

आलम यह रहा कि पूरे हाथ को ब्लेड से काट दिया गया. जब इससे भी मन नहीं भरा तो पीठ पर डंडे से मारा गया है. जिससे पूरे पीठ पर चोट के निशान उभरे हुए हैं. अब उसका इलाज हजारीबाग मेडिकल कॉलेज अस्पताल में चल रहा है. चाइल्ड लाइन इस पूरे मामले को देख रही है. घटना के बारे में बताया जा रहा है कि आशा चौधरी के घर में दोनों बच्ची पालतू कुत्ते के साथ खेल रही थी.

कुत्ते को चोट लगने पर घरवालों को गुस्सा आ गया और उन्होंने बच्चे की पिटाई कर दी. जब मारपीट और रोने की आवाज बहुत दूर तक जाने लगी तो पड़ोसियों ने इसकी सूचना प्रशासन को दी और उसके बाद प्रशासन हरकत में आ गया.

पीड़िता बच्ची ने आपबीती सुनाते हुए कहा कि वह घर पर बर्तन, झाडू ,पोंछा और सारा काम करती है. जिसके बाद दो वक्त खाना उन्हें दिया जाता है. खाना भी खुद उन्हें ही बनाना पड़ता है. जब काम करने में देर होती है तो पिटाई होती है. बच्ची ने बताया कि मूल रूप से वह रांची महुआ टोली की रहने वाली है. उसके पिता कहीं काम करते हैं. मां घर पर रहती है. गरीबी के कारण उसे यहां काम में लगा दिया गया. 

ये भी पढ़ें- झारखंड में दिखा पुलिस का खौफ, बलात्कार के आरोपी ने गिरफ्तारी के डर से काटा अपना गला

इस पूरे प्रकरण पर बड़ा बाजार थाना प्रभारी का कहना है कि, 'हम लोग इस मामले को काफी गंभीरता से ले रहे हैं. चाइल्ड हेल्पलाइन इस मामले की जांच कर रही है. हम लोगों को लिखित आवेदन दिया जाएगा. अगर लिखित आवेदन नहीं भी दिया जाएगा, तो हम लोग स्वत संज्ञान लेकर एफ आई आर दर्ज करेंगे.'

इधर, Childline की पदाधिकारी का कहना है कि, 'हम लोग बच्ची का इलाज मेडिकल कॉलेज में करवा रहे हैं. जो बच्ची ने बताया है उस पर जांच की जा रही है. प्रथम दृष्टि से तो यह स्पष्ट है कि उसके साथ बहुत बुरी तरह से मारपीट की गई है.'

वहीं, आरोपी के घर में घटना घटने के बाद ताला लगा हुआ है. पड़ोसियों का कहना है कि वह कहीं बाहर चले गए हैं. घटना हम लोगों को सोचने पर विवश कर रही है कि जहां एक ओर सरकार बेटी पढ़ाओ, बेटी बचाओ का नारा दे रही है तो दूसरी और बेटियों के साथ ऐसी हैवानियत हो रही है. जरूरत है प्रशासन आम जनता और सामाजिक संगठन को सक्रियता के साथ आगे आने की, तभी हम बेटियों को सुरक्षित रख सकते हैं.

 

(इनपुट- यादवेंद्र सिंह)