पलामू में 5 जनवरी को 2500 करोड़ रुपये के मंडल डैम का शिलान्यास करेंगे पीएम मोदी
Advertisement
trendingNow0/india/bihar-jharkhand/bihar485073

पलामू में 5 जनवरी को 2500 करोड़ रुपये के मंडल डैम का शिलान्यास करेंगे पीएम मोदी

पलामू में बनने वाली मंडल डैम का शिलान्यास करने के लिए पीएम मोदी खुद 5 जनवरी को झारखण्ड के पलामू जिला आ रहे है.

पीएम मोदी 5 जनवरी को पलामू में मंडल डैम का शिलान्यास करेंगे. (फाइल फोटो)

कुमार चंदन/रांचीः वर्षों से पलामू इलाके के लोगों की लंबित मांग मंडल डैम, जिसका निर्माण 2500 करोड़ की राशि से होनी है. डैम का शिलान्यास करने के लिए पीएम मोदी खुद 5 जनवरी को झारखण्ड के पलामू जिला आ रहे है. पीएम के दौरे को लेकर प्रशासन ने तैयारी शुरू कर दी है तो दौरे पर विरोधियों की भी नजर है.

सूबे के सीएम ने बताया पीएम के दौरे राज्य को सवा तीन करोड़ लोगों को फायदा होगा तो विरोधी पुरानी मांग को चुनाव से ठीक पहले तीन राज्यों में मिली हार के बाद झारखण्ड में डैमेज कंट्रोल के लिए चुनावी दौरा बता रहे हैं.

सीएम रघुवर दास ने कहा की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने झारखंड की जनता से जो वादा किया था उसे प्रतिबद्धता के साथ पूरा करने का कार्य किया है. राज्य के पलामू जिले में 2500 करोड़ की लागत से बनने वाले मंडल डैम का शिलान्यास किया जाएगा. मंडल डैम का कार्य वर्ष 1972 से रुका पड़ा था. राज्य सरकार एवं केंद्र सरकार के आपसी समन्वय से डैम की आधारशिला रखी जाएगी. मंडल डैम के निर्माण होने से पलामू एवं गढ़वा के किसानों को सीधा लाभ पहुंचेगा. 

वहीं, मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री द्वारा 1138 करोड़ की लागत से पलामू एवं गढ़वा में सोन नदी से सिंचाई और पेयजल उपलब्ध कराने की योजना की भी आधारशिला रखी जाएगी. इस योजना के तहत जमीन के अंदर अंडरग्राउंड पाइप लाइन बिछाई जाएगी. अंडरग्राउंड पाइप लाइन बिछाने से भूमि अधिग्रहण की भी आवश्यकता नहीं पड़ेगी. पेय जल की समस्या भी दूर होगी और सिंचाई से किसान आर्थिक रूप से समृद्ध होंगे. 

रघुवर दास ने यह बताया कि नरेंद्र मोदी जब गुजरात के मुख्यमंत्री थे तब उन्होंने साबरमती नदी से क्षेत्र में पाइप लाइन के माध्यम से पेयजल और सिंचाई की सुविधा उपलब्ध कराने का कार्य किया था. उसी मॉडल पर सोन नदी से पाइप लाइन के माध्यम से पलामू और गढ़वा में पेयजल और सिंचाई की सुविधा उपलब्ध कराना सरकार का लक्ष्य है. 

पीएम के पलामू दौरे पर विरोधियों की भी नजर है, सूबे में सरकार की विरोधी पार्टियां पीएम के दौरे को चुनाव के समय चुनावी कवायद वाला दौरा बता रहे हैं. जेएमएम की मानें तो इस इलाके के लोगों की बड़ी पुरानी मांग रही है पर शासन के पौने पांच साल बीतने के बाद पीएम मोदी को चुनाव से एक दो महीने पहले पलामू की याद आ रही है, तो कांग्रेस की मानें तो पीएम के दौरे से झारखण्ड के लोगों को कुछ हासिल नहीं होने वाला है.

मिशन 19 का साधन के लिए तमाम सियासी पार्टियां अपने अपने तरीके से सियासत को साधने में जुटी है. झारखण्ड में चुनाव लोकसभा और विधानसभा का चुनाव 2019 में ही होना है ऐसे में विरोधी पीएम के पलामू दौरे को भी सियासी चश्में से देख रहे हैं तो सूबे के मुखिया का साफ तौर पर मानना है कि, बीजेपी विकास की राजनीति करती है और जब किसान और जनता को फायदा होगा तो बीजेपी को भी फायदा होगा.