पेट्रोल-डीजल की कीमतों में बढ़ोत्तरी का असर, रांची में बढ़ा निजी बसों का किराया

रांची में डीजल के दामों में लगातार बढ़ोत्तरी की वजह से निजी बस संचालकों ने किराया बढ़ाने का फैसला किया है. 

पेट्रोल-डीजल की कीमतों में बढ़ोत्तरी का असर, रांची में बढ़ा निजी बसों का किराया
रांची में पाइवेट बस का किराया बढ़ा दिया गया है. (फाइल फोटो)

रांचीः पेट्रोल-डीजल की कीमतों में लगातार बढ़ोत्तरी के बाद पूरे देश में कांग्रेस ने भारत बंद का आह्वान किया था. वहीं, पेट्रोल-डीजल की कीमतों की वजह से महंगाई बढ़ने की भी बात कही जा रही थी. हालांकि अब तक महंगाई पर असर देखने को नहीं मिल रहा था. लेकिन अब शायद यह अपना असर दिखाना शुरू कर दिया है.

झारखंड की राजधानी रांची में अब लोगों पर पेट्रोल-डीजल की बढ़ी कीमतों की मार झेलनी पड़ेगी. अब तक उन लोगों पर ही इसकी मार पर रही थी जो अपने वाहनों में पेट्रोल-डीजल डलवा रहे थे. लेकिन अब पेट्रोल-डीजल की कीमतों का असर हर रांची में हर व्यक्ति पर देखने को मिलेगा.

दरअसल रांची में डीजल के दामों में लगातार बढ़ोत्तरी की वजह से निजी बस संचालकों ने किराया बढ़ाने का फैसला किया है. बस संचालकों का कहना है कि दो हफ्ते में करीब 10 रुपये तक डीजल के दामों में बढ़ोत्तरी हुई है. जिससे बस संचालन में परेशानी उठानी पड़ रही है.

वहीं, उनका कहना है कि तेल पर सरकारी वैट मे कमी के अनुरोध पर भी फैसला नहीं लिया गया. लिहाजा अब बस के किरायों में भी बढ़ोत्तरी की जा रही है.

फैसले के अनुसार बस संचालकों ने 50 किलोमीटर की दूरी पर 10 रुपये किराया बढ़ा दिया है. साथ ही 100 किलोमीटर की दूरी पर 15 रुपये और 150 किलोमीटर की दूरी के लिए 20 रुपये तक किराया बढ़ा दिया गया है. यह दर गुरुवार (13 सितंबर) से लागू हो जाएगी.

हालांकि झारखंड बस ऑनर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष केएम सिंह ने कहा है कि अगर सरकार डीजल पर वैट का दर घटा देती है तो बस का किराया भी घटा दिया जाएगा. उन्होंने कहा कि किराया बढ़ाया जाना उनकी मजबूरी है. क्योंकि डीजल के मूल्य में काफी बढ़ोत्तरी हो गई है. जिससे बस के परिचालन में कठिनाई आ रही है.

एसोसिएशन अध्यक्ष ने यात्रियों से भी अपील करते हुए कहा है कि उन्हें भी हमारे साथ सहयोग करना होगा. जिससे की बस के संचालन में आसानी हो.