Bokaro में कोरोना का कहर जारी, बचाव के लिए इलाके किए जा रहे सैनिटाइज

Bokaro Samachar: बोकारो में कोरोना के बढ़ते मामले को देखते हुए अब भीड़-भाड़ वाले इलाकों को सेनेटाइज किया जा रहा है.

Bokaro में कोरोना का कहर जारी, बचाव के लिए इलाके किए जा रहे सैनिटाइज
बचाव के लिए इलाके किए जा रहे सैनिटाइज. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

Bokaro: बोकारो में कोरोना के बढ़ते मामले को देखते हुए अब भीड़-भाड़ वाले इलाकों को सेनेटाइज किया जा रहा है. साथ हीं, ऐसे जगहों को भी सैनेटाइज करने का काम किया जा रहा है जहां जांच के बाद कोरोना के मरीज पाए गए हैं. 

बोकारो में सनेटाइज का काम शुरू 
आज बोकारो कोर्ट परिसर को सनेटाइज करने का काम किया गया. यहां बोकारो स्टील प्लांट के टीए डिपार्टमेंट के सैनिटाइजर युक्त गाड़ी ने पूरे कोर्ट परिसर को सेनेटाइज करने का काम किया. बता दें कि पिछले दिनों जांच के क्रम में कई पॉजिटिव मामले सामने आए थे. जिसके बाद फिजिकल कोर्ट को बंद कर और वर्चुअल कोर्ट कर दिया गया है. अब कोर्ट परिसर के बाहर ही वकील अपना आवेदन लेटर बॉक्स में डाल रहे हैं. 

ये भी पढ़ेंः कोरोना में छिड़ी एक और जंग, डॉक्टर नहीं कर रहे हैं ड्यूटी जॉइन

बोकारो में कोरोना की रफ्तार
लगातार कोरोना के केस बढ़ रहे हैं. वहीं, बोकारो में 194 कोरोना संक्रमित के नए मामले गुरुवार को सामने आए. जिसके बाद जिले में कोरोना संक्रमण के 748 सक्रिय मामले हो गए. वहीं, बीते साल अप्रैल में केवल 20 मामले सामने आए थे लेकिन इस साल मामले हजार के पार हो गए. 

कोरोना को लेकर प्रशासन सतर्क
जिस रफ्तार से कोरोना बढ़ रहा है वैसे में हालात गंभीर होने का संकेत साफ दिख रहे हैं. ऐसे में अब बोकारो जिला प्रशासन ने भी सख्ती बरतनी का काम शुरू किया है. वहीं, कोरोना गाइडलाइंस का पालन नहीं करने वाले ऐसे 4 दुकानदारों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है. 

ये भी पढ़ेंः झारखंड में Corona ने पकड़ी रफ्तार, अस्पताल में बेड बढ़ाने में आई तेजी

इधर, बोकारो में औसतन हर रोज कोरोना के 60 नए मामले देखे जा रहे हैं. ऐसे में अब टीकाकरण पर भी स्वास्थ्य विभाग की ओर से जोर दिया जा रहा है और 7 दिन में 35,000 लोगों को टीका देने का काम किया गया है. वहीं, बोकारो सिविल सर्जन डॉ अशोक पाठक का कहना है की कोरोना से बचने के लिए लोगों से SOP का पालन करने का अपील किया जा रहा है और भीड़भाड़ वाले इलाके को सेनेटाइज करने का काम किया जा रहा है.

(इनपुट-मृत्युंजय मिश्रा)