5 साल तक के बच्चों को आधार बिना मिलेगा आयुष्मान भारत योजना का लाभ, जानिए कैसे
X

5 साल तक के बच्चों को आधार बिना मिलेगा आयुष्मान भारत योजना का लाभ, जानिए कैसे

डॉ. शर्मा ने कहा कि आयुष्मान भारत योजना के तहत अभी 5 लाख रुपये तक का चिकित्सकीय लाभ मिल रहा है. इस राशि की सीमा जल्द ही बढ़ायी जाएगी. इसके साथ ही देशभर में आयुष्मान के तहत ज्यादा से ज्यादा अस्पतालों को जोड़ा जाएगा. 

 5 साल तक के बच्चों को आधार बिना मिलेगा आयुष्मान भारत योजना का लाभ, जानिए कैसे

Ranchi: पांच साल तक की उम्र के बच्चों का अगर आधार (Aadhar Card) में एनरोलमेंट नहीं है या फिर राशन कार्ड (Ration Card) में नाम दर्ज नहीं है, तब भी आयुष्मान भारत योजना (Ayushman Bharat Yojna) के तहत उनका इलाज किया जाएगा. ऐसे बच्चों का इलाज अब उनके माता-पिता के राशन कार्ड के आधार पर भी किया जा सकेगा. 

अभी तक ये था प्रावधान

अब तक अधिकतम एक वर्ष की उम्र वाले बच्चों के लिए ही यह सहूलियत दी जाती थी. यह बात (NHA) के सीईओ डॉ. आर.एस. शर्मा ने यहां बुधवार को यह जानकारी दी. नेशनल हेल्थ अथॉरिटी (National Health Authority) के सीईओ डॉ. शर्मा ने आयुष्मान भारत योजना के तहत सर्वाधिक क्लेम के मामले में देशभर में तीसरा स्थान हासिल करनेवाले रांची सदर अस्पताल (Ranchi Sadar Hospital) के साथ-साथ रातू स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र और रानी चिल्ड्रेन हॉस्पिटल (Ranchi Children Hospital) में इस योजना के कार्यान्वयन का जायजा लिया. 

ये भी पढ़ें-झारखंड की तरक्की को मिलेगी नई रफ्तार, 2 नए एक्सप्रेसवे से घटेगी रांची-कोलकाता की दूरी

आयुष्मान भारत योजना की राशि जाएगी बढ़ाई

उन्होंने रांची सदर हॉस्पिटल प्रबंधन की सराहना करते हुए कहा कि आयुष्मान योजना के तहत जिस तरह यहां ज्यादा से ज्यादा लोगों को लाभ पहुंचाया गया है, उसी तरह का मॉडल देश के दूसरे अस्पतालों में भी लागू कराने का प्रयास होगा. डॉ. शर्मा ने कहा कि आयुष्मान भारत योजना के तहत अभी 5 लाख रुपये तक का चिकित्सकीय लाभ मिल रहा है. इस राशि की सीमा जल्द ही बढ़ायी जाएगी. इसके साथ ही देशभर में आयुष्मान के तहत ज्यादा से ज्यादा अस्पतालों को जोड़ा जाएगा. 

अस्पतालों को मिले सहूलियत

उन्होंने यह भी आश्वस्त किया कि अस्पतालों को इलाज के बदले मिलनेवाले पैकेज को और सुविधाजनक एवं तार्किक बनाया जाएगा, ताकि अस्पतालों को भी इस योजना के लाभुकों के इलाज में सहूलियत हो. उन्होंने प्राइवेट हॉस्पिटल के क्लेम का निपटारा कराए जाने और क्लेम के मामले में अच्छे रिकॉर्ड वाले अस्पतालों को ग्रीन चैनल में शामिल किया जाएगा. ऐसे अस्पतालों को क्लेम का दावा करते ही 50 फीसदी भुगतान किया जाएगा. रांची में अस्पतालों के निरीक्षण के दौरान डॉ. शर्मा ने मरीजों से उन्हें मिल रही सुविधाओं के बारे में जानकारी ली. 

(इनपुट-आईएएनएस)

Trending news