'आस्था से स्वच्छता की ओर' अभियान का असर, स्वर्णरेखा-खरकाई नदी नहीं हुई दूषित
X

'आस्था से स्वच्छता की ओर' अभियान का असर, स्वर्णरेखा-खरकाई नदी नहीं हुई दूषित

जमशेदपुर शहर में अनुसूचित क्षेत्र समिति की तरफ से चलाए जा रहे 'आस्था से स्वच्छता की ओर' अभियान का बड़ा असर देखने को मिल रहा है. इसकी वजह से दुर्गा पूजा संपन्न होने के बाद नदियां ज्यादा दूषित नहीं हुई है.

'आस्था से स्वच्छता की ओर' अभियान का असर, स्वर्णरेखा-खरकाई नदी नहीं हुई दूषित

Jamshedpur: जमशेदपुर शहर में अनुसूचित क्षेत्र समिति की तरफ से चलाए जा रहे 'आस्था से स्वच्छता की ओर' अभियान का बड़ा असर देखने को मिल रहा है. इसकी वजह से दुर्गा पूजा संपन्न होने के बाद नदियां ज्यादा दूषित नहीं हुई है. इससे जमशेदपुर शहर की लाइफ लाइन कही जाने वाली स्वर्णरेखा और खरकाई नदी अब भी साफ दिख रही हैं. 

आस्था से स्वच्छता की ओर अभियान 

जमशेदपुर शहर की लाइफ लाइन कही जाने वाली स्वर्णरेखा और खरकाई नदी दुर्गा पूजा संपन्न होने के बाद भी ज्यादा दूषित नहीं हुईं है. शहर में अनुसूचित क्षेत्र समिति की तरफ से चलाए जा रहे 'आस्था से स्वच्छता की ओर' अभियान का बड़ा असर देखने को मिल रहा है. पहले दुर्गा पूजा संपन्न होने के बाद जो नदियां दूषित हो जाती थी, उन नदियों का नजारा इस साल कुछ अलग ही देखने को मिला. स्वच्छता अभियान की वजह से स्वर्णरेखा और खरकाई नदी अब भी साफ दिख रही हैं और लोग इसके किनारे सेल्फी ले रहे हैं. 

कुंड में डाली गई पूजा सामग्री

इस बार दुर्गा पूजा के बाद नदियां ज्यादा दूषित नहीं हुई हैं. दरअसल इस बार विसर्जन के दौरान सभी लोगों ने मां की प्रतिमा नदी में डाली और पूजा सामग्री को नदी किनारे बनाए गए एक कुंड में डाला. वहीं, शहर के सभी नदी घाटों से लगभग 10 टन पूजा सामग्री इकट्ठा किया गया, जिसे अब रीसाइक्लिंग कर खाद बनाया जाएगा. सभी लोगों ने भी अपनी आस्था को पूरा करते हुए पूजा सामग्री नदी में विसर्जित किया. फिर उसे उठाकर लाकर कुंड में डाला और नदियों को दूषित होने से बचाया. 

रंग लाई नदियों को बचाने की कोशिश

स्वर्ण रेखा और खरकाई नदी को दूषित होने से बचाने की कोशिश इस बार कामयाब हुई. इन नदियों से जमशेदपुर के साथ-साथ आसपास के 40 गांव को भी पीने का पानी मिलता है, लेकिन त्यौहार में विसर्जन के दौरान ये नदियां दूषित हो जाती थीं. इससे लोगों को पीने के पानी के लिए परेशान होना पड़ता था. लेकिन इस बार जमशेदपुर अधिसूचित क्षेत्र समिति के 'आस्था से स्वच्छता की ओर' अभियान को मिला शहर के लोगों का भरपूर समर्थन मिला. सफाई कर्मियों का भी कहना है कि इस बार इन्हें कम मेहनत पड़ी है. 

ये भी पढ़ें: लालू के बिहार वापसी को लेकर तेजस्वी यादव ने दिया अपडेट, उपचुनाव में प्रचार को लेकर भी कही ये बड़ी बात

प्रेरणा का स्त्रोत बना 'आस्था' स्वच्छता अभियान
जिस नदी में गंदगी के अंबार के कारण ये  दोनों नदियां हमेशा सुर्खियों में बना रहता था . इस बार अपनी सफाई को लेकर ये नदीयां सुर्खियों में बना हुआ है . जिसमें प्रशासन के साथ-साथ शहर के लोगों ने भी अपना पूरा सहयोग दिया. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अपील का शहर के लोगों ने बढ़-चढ़कर समर्थन किया और नदी को साफ रखने के लिए हर संभव प्रयास किया. निश्चित तौर पर अब आने वाले समय में जमशेदपुर शहर का यह अभियान अन्य जगहों के लिए भी प्रेरणा का स्त्रोत बनेगा. 

(इनपुट- आशीष कुमार)

 

Trending news