बिहार में बाढ़ के मुद्दे पर माझी ने किसी को नहीं बख्सा, केंद्र से लेकर नीतीश और तेजस्वी पर साधा निशाना

जीतन राम मांझी अपनी बयानों को लेकर हमेशा चर्चा में रहते हैं. वहीं, बिहार में आई बाढ़ को लेकर मांझी ने  केंद्र और राज्य सरकार के साथ विपक्ष पर भी निशाना साधा है.

बिहार में बाढ़ के मुद्दे पर माझी ने किसी को नहीं बख्सा, केंद्र से लेकर नीतीश और तेजस्वी पर साधा निशाना
बाढ़ को लेकर मांझी ने केंद्र और राज्य सरकार के साथ विपक्ष पर भी निशाना साधा है. (फाइल फोटो)

पटना: जीतन राम मांझी अपनी बयानों को लेकर हमेशा चर्चा में रहते हैं. वहीं, बिहार में आई बाढ़ को लेकर मांझी ने  केंद्र और राज्य सरकार के साथ विपक्ष पर भी निशाना साधा है. माझी ने कहा कि बाढ़ की जो समस्या है आज की समस्या नहीं है. इसके लिए अगर कोई कहता है कि वर्तमान सरकार ही जवाब देह है तो वह लोग राजनीति कर रहे हैं. बिहार में जितनी भी नदी नेपाल से आती हैं वह तबाही मचाती है.

बिहार में कांग्रेस की सरकार रही हो या लालू यादव की सरकार हुई हो यह नीतीश कुमार की सरकार रही हो यह लोग तत्कालीन उपाय करते हैं और ठोस उपाय कुछ नहीं कर रहे हैं. केंद्र सरकार बिहार सरकार  और नेपाल को लेकर एक कमेटी बनाना चाहिए उसके बाद  कोई ठोस निर्णय लेना चाहिए. अब बिहार में डबल इंजन की सरकार है और इस मामले पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को बात करके बांध के मामले पर कार्य करना चाहिए.

उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार के मुख्यमंत्री रहते हुए 15 साल हो गए. अगर इनके इस कार्यकाल को कोई कोसता है तो बताएं वह कि पिछले 15 साल वह कौन काम किया उसको पहले कौन काम कर रहा था. बिहार में जिस तरह से बाढ़ और कोरोना महामारी है, उसको लेकर कोई राजनीति नहीं करना चाहिए.

माझी ने कहा 9 महीने में मुख्यमंत्री के पद पर मै  था अगर  और अधिक दिन मैं सरकार में रहता तो निश्चित रूप से केंद्र सरकार पर दबाव डालता की स्थाई उपाय किया जा सके. आज बदकिस्मती है कि नेपाल से हमारे संबंध खराब हो गए हैं. अगर हमारे विदेश नीति ठीक रहता तो नेपाल में हमसे लोग खफा नहीं होते आज बिहार सरकार सही रूप से हस्तक्षेप करें तो बिहार के लोगों को बाढ़ से राहत मिल जाएगी.