close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पटना: महागठबंधन को लग सकता है बड़ा झटका, मांझी कर सकते हैं अलग होने का ऐलान

हिंदुस्तान आवाम मोर्चा के राष्ट्रीय जीतन राम मांझी महागठबंधन में समन्वय समिति नहीं बनाए जाने से नाराज हैं. वहीं, महागठबंधन के नेता लगातार जीतन राम मांझी के संपर्क में हैं और वह पूर्व मुख्यमंत्री को मनाने का प्रयास कर रहे हैं.

पटना: महागठबंधन को लग सकता है बड़ा झटका, मांझी कर सकते हैं अलग होने का ऐलान
जीतन राम मांझी की पार्टी HAM महागठबंधन से अलग हो सकती है. (फाइल फोटो)

पटना: बिहार में महागठबंधन को एक और बड़ा झटका लग सकता है. हिंदुस्तान आवाम मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष (HAM)  और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी (Jitan Ram Manjhi) रविवार को महागठबंधन (Mahagathbandhan) से अलग होने का औपचारिक ऐलान कर सकते हैं. जानकारी के मुताबिक, रविवार को हिंदुस्तान आवाम मोर्चा के युवा प्रकोष्ठ की बैठक होनी है. इस बैठक के बाद मांझी की पार्टी हिंदुस्तान आवाम मोर्चा महागठबंधन से अलग होने का घोषणा करेगी.

सूत्रों के मुताबिक, हिंदुस्तान आवाम मोर्चा के राष्ट्रीय जीतन राम मांझी महागठबंधन में समन्वय समिति नहीं बनाए जाने से नाराज हैं. आपको बता दें कि मांझी ने कुछ दिन पूर्व ऐलान भी किया था कि उनका पार्टी झारखंड और बिहार में विधानसभा चुनाव अलग लड़ेगी.

वहीं, महागठबंधन के नेता लगातार मांझी के संपर्क में हैं और वह पूर्व मुख्यमंत्री को मनाने का प्रयास कर रहे हैं. इससे पहले शुक्रवार को पूर्व केंद्रीय मंत्री और राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (RLSP) के राष्ट्रीय अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा (Upendra Kushwaha)  से भी जब मांझी के महागठबंधन के अलग होने को लेकर सवाल किया गया तो, उन्होंने कहा था कि ऐसा कुछ नहीं है. कुशवाहा ने कहा कि मांझी महागठबंधन के साथ हैं. 
 
कांग्रेस सासंद अखिलेश सिंह ने भी मांझी को लेकर कहा था कि वह महागठबंधन का हिस्सा हैं और उन्होंने ऐसे ही कह दिया होगा. आपको बता दें कि झारखंड में इस महीने के अंत में विधानसभा चुनाव होने हैं. इससे पहले अगर मांझी अलग होते हैं, तो ये महागठबंधन के लिए बड़ा झटका हो सकता है.