close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जीतनराम मांझी का बड़ा बयान, बोले- 'तेजस्वी यादव का NDA से है सांठगांठ'

जीतनराम मांझी के बयान के बाद आरजेडी की तरफ से पार्टी के विधायक राहुल तिवारी ने पलटवार करते हुये कहा है कि मांझी ने तेजस्वी यादव पर जो आरोप लगाए हैं वह निराधार है. 

जीतनराम मांझी का बड़ा बयान, बोले- 'तेजस्वी यादव का NDA से है सांठगांठ'
जीतनराम मांझी का बड़ा बयान. (फाइल फोटो)

पटना : बिहार में विधानसभा के पांच सीटों पर हो रहे उपचुनाव में टिकट बंटवारे को लेकर महागठबंधन में टूट की खबर जगजाहिर हो चूकी है. इस बीच हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा (HAM) के राष्ट्रीय अध्यक्ष जीतनराम मांझी (Jitan Ram Manjhi) ने कटिहार में बयान देकर एक नया विवाद छेड़ दिया है. मांझी ने कहा है कि राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) और तेजस्वी यादव के बीच कुछ न कुछ है. इससे एनडीए को चुनाव में फायदा पहुंचेगा. 

जीतनराम मांझी के बयान के बाद आरजेडी की तरफ से पार्टी के विधायक राहुल तिवारी ने पलटवार करते हुये कहा है कि मांझी ने तेजस्वी यादव पर जो आरोप लगाए हैं वह निराधार है. आरजेडी कभी भी बीजेपी का समर्थन नहीं कर सकती है. जीतनराम मांझी ने जो बयान दिया है वह गलत है.

राहुल तिवारी यहीं नहीं रुके. उन्होंने कहा कि जीतनराम मांझी की अब उम्र हो चुकी है. दिमाग उनका बच्चा जैसा है. परिपक्व नहीं हैं. मुख्यमंत्री भले बन गए हों नीतीश कुमार की कृपा से लेकिन अभी भी गंभीरता नहीं है. उम्र के हिसाब से मांझी को ज्ञान प्राप्त नहीं हुआ है.

वहीं, जेडीयू प्रवक्ता राजीव रंजन ने मांझी पर तंज कसते हुये कहा कि जीतनराम मांझी जब जिसके साथ रहते हैं, उसकी स्तुति करने में शब्दों की कोई कंजूसी नहीं करते हैं. जब बिछड़ते हैं तो किसी भी हद तक जा सकते हैं. यह तेजस्वी यादव को सोचना है कि उनकी अनुभवहीनता ने कैसे-कैसे दोस्त बनाए हैं. तेजस्वी यादव से किसी के गाठबंधन का सवाल ही नहीं उठता है.

जेडीयू प्रवक्ता ने कहा कि एनडीए को तेजस्वी यादव से हाथ मिलाने की कोई जरूरत नहीं है. तेजस्वी यादव धीरे-धीरे अपनी अनुभवहीनता और अहंकार की वजह से आरजेडी में पहले ही कमजोर हो चुके हैं. जनता ने उन्हें खारिज कर दिया है. इस चुनाव में आरजेडी के ताबूत में आखरी कील ठोकने का वक्त आ गया है.

बीजेपी ने जीतनराम मांझी के इस बयान पर महागठबंधन पर ही निशाना साध दिया है. पार्टी के प्रवक्ता नवल यादव की मानें तो इस गठबंधन के सभी नेता एक-दूसरे पर नजर रखते हैं. एक-दूसरे पर कटाक्ष करते हैं. इसमें बीजेपी को कोसते हैं. तेजस्वी यादव, जीतनराम मांझी, उपेन्द्र कुशवाह, मुकेश सहनी, ये कुछ नही करेंगे. ये बुझे हुए दीपक हैं.  बीजेपी से बिहार सरकार की सेटिंग है तो तेजस्वी यादव से क्या सेटिंग करना. मांझी एनडीए से ही गए हैं. घर-घर घूमते रहते हैं. एसे लोगों से सांठगांठ करने की जरूरत नहीं है. 

वहीं, जीतनराम मांझी के बयान पर कांग्रेस ने कहा है की इस बात को वह नहीं मानती है. पार्टी के प्रवक्ता राजेश राठौड़ ने कहा कि तेजस्वी यादव का एनडीए के साथ या बीजेपी के साथ कोई सांठगांठ नहीं हैं, क्योंकि दो विचारधारा की लड़ाई है.