देर रात जांच हो तो मंत्री-अफसर शराब के नशे में मिलेंगे, जेल तो गरीबों को होती है: जीतन राम मांझी

पूर्व मुख्यमंत्री और हम के सुप्रीमो जीतन राम मांझी ने शराबबंदी पर बड़ा बयान दिया है और साथ ही नीतीश सरकार पर बड़ा आरोप भी लगाया है कि शराबंदी कानून गरीबों को परेशान करने के लिए बनाया गया है. 

देर रात जांच हो तो मंत्री-अफसर शराब के नशे में मिलेंगे, जेल तो गरीबों को होती है: जीतन राम मांझी
जीतन राम मांझी ने कहा है कि गरीबों को परेशान करने के लिए शराबबंदी कानून को लागू किया है.(फाइल फोटो)

पटना: पूर्व मुख्यमंत्री और हम के सुप्रीमो जीतन राम मांझी ने शराबबंदी पर बड़ा बयान दिया है और साथ ही नीतीश सरकार पर बड़ा आरोप भी लगाया है कि शराबबंदी कानून गरीबों को परेशान करने के लिए बनाया गया है. साथ ही उन्होंने एक और चौंकाने वाली बात की है और कहा है कि बिहार के आईएस, आपीएस, विधायक और मंत्री की रात 10 बजे के बाद जांच हो तो सभी शराब के नशे में मिलेंगे. 

उन्होंने कहा है कि नीतीश सरकार ने गरीबों को परेशान करने के लिए शराबबंदी कानून को लागू किया है. अगर कोई गरीब थोड़ी थकावट मिटाने के लिए शराब पीता है तो आप उसे जेल भेज देते हैं. अमीर आदमी, बड़े अधिकारी, एमएलए और मंत्री रोज शराब पीते हैं लेकिन उनकी जांच नहीं की जाती है.

साथ ही जीतन राम मांझी ने कहा है कि शराबबंदी के कारण पदाधिकारी करोड़पति हो रहे हैं. पदाधिकारी तो चाहते हैं कि नीतीश कुमार एक बार और मुख्यमंत्री बनें वो लोग करोड़पति हो जाएं. जीतन राम मांझी के इस बयान से कई सवाल जरूर खड़े हो रहे हैं लेकिन राजनीतिक पार्टियां इससे किनारा करती नजर आ रही है.

आरजेडी प्रवक्ता भाई वीरेंद्र ने इस बयान पर अपनी प्रतिक्रिया देने से इंकार करते हुए कहा कि मैंन बयान सुना ही नहीं है इसलिए कुछ कह नहीं सकते हैं. बयान सुनने के बाद ही किसी तरह की प्रतिक्रिया देंगे.