close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

तेजस्वी के नो एंट्री कहने के बाद, मांझी ने कहा- 'हम अनंत सिंह का स्वागत करते हैं'!

हम पार्टी के प्रमुख जीतन राम मांझी ने अनंत सिंह का अपनी पार्टी में स्वागत किया है.

तेजस्वी के नो एंट्री कहने के बाद, मांझी ने कहा- 'हम अनंत सिंह का स्वागत करते हैं'!
जीतन राम मांझी ने अनंत सिंह का अपनी पार्टी में स्वागत किया है.

आशुतोष चंद्रा/पटनाः बिहार में जहां महागठबंधन में सीट शेयरिंग पर बात साफ नहीं हो पा रही है. वहीं, महागठबंधन में नेताओं की एंट्री को लेकर भी बात साफ नहीं हो पा रहा है. जहां एक दल किसी नेता का महागठबंधन में स्वागत करते हैं वहीं, दूसरे दल कहते हैं नो एंट्री. दरअसल, बाहुबली नेता अनंत सिंह की महागठबंधन में एंट्री को लेकर सभी दलों की राय अलग-अलग दिख रही है. वहीं, आरजेडी में भी इस मत में कभी साथ तो कभी अलग-अलग दिख रहे हैं.

महागठबंधन में अनंत सिंह की एंट्री का पेंच फंस गया है. जहां तेजस्वी यादव ने साफ कह दिया है कि अनंत सिंह की आरेजडी और महागठबंधन में एंट्री नहीं हो सकती है. वहीं, हम पार्टी के प्रमुख जीतन राम मांझी ने अनंत सिंह का अपनी पार्टी में स्वागत किया है. उन्होंने कहा है कि वह अनंत सिंह का अपनी पार्टी में स्वागत करते हैं.

हालांकि जीतन राम मांझी ने आगे कहा कि मैं उन्हें अपनी पार्टी में शामिल करने को तैयार हूं और महागठबंधन में भी उनको शामिल करना चाहते हैं. लेकिन महागठबंधन में किसी एक दल की राय नहीं चलेगी. सभी के सर्वसम्मति से ही किसी को सीट या स्थान दिया जाएगा. ऐसे में कुछ भी नहीं हो सकता है.

आपको बता दें कि मांझी से पहले आरजेडी नेता तेजप्रताप यादव भी अनंत सिंह का महागठबंधन में स्वागत करने की बात कही थी. लेकिन जब तेजस्वी यादव ने कहा कि पार्टी में बैड एलिमेंट्स की कोई जगह नहीं है और जो समाजिक न्याय का विरोधी हो उनके लिए पार्टी में कोई जगह नहीं है. अनंत सिंह को पार्टी में शामिल नहीं कर सकते हैं. इसके बाद तेजप्रताप यादव ने भी अपने बयान को बदल दिया और कहा कि महागठबंधन में अच्छे छवि वाले नेताओं को ही शामिल किया जाएगा. इसलिए अनंत सिंह हमारे साथ नहीं आ सकते हैं.

अब मांझी इन सब के उलट अनंत सिंह का अपनी पार्टी में स्वागत किया है. लेकिन उन्होंने महागठबंधन में सभी दलों की राय पर ही फैसला लेने की बात कही है. इससे साफ है कि महागठबंधन में किसी एक की राय से कुछ नहीं चलेगा और सभी की राय भी अलग-अलग है.

वहीं, जीतन राम मांझी ने सीट शेयरिंग पर कहा है कि वह जल्द ही लालू प्रसाद से मिलने रांची जाने वाले हैं. जीतन राम मांझी 5 जनवरी को सीट शेयरिंग के मसले पर लालू प्रसाद से मुलाकात करेंगे. मांझी ने कहा कि ज्याद सीट पाने को लेकर सभी दलों की तरफ से बयान आ रहे हैं. लेकिन फैसला अभी नहीं हुआ. हम नेता ने कहा कि उनकी पार्टी 20 सीटों पर चुनाव की तैयारी कर रही है. जहां वो चुनाव नहीं लडेंगे वो महागठबंधन को सहयोगियों को मदद करेंगे.