close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

झारखंड : हेमंत सोरेन चुने गए महागठबंधन के नेता, 30 जनवरी को सीट शेयरिंग पर फैसला

बैठक के बाद बाबूलाल मरांडी ने कहा कि यह पहली मीटिंग हुई है. 30 जनवरी तक महागठबंधन को लेकर सबकुछ स्पष्ट हो जाएगा. 

झारखंड : हेमंत सोरेन चुने गए महागठबंधन के नेता, 30 जनवरी को सीट शेयरिंग पर फैसला
झारखंड में हमंत सोरेन होंगे महागठबंधन के नेता. (फाइल फोटो)

मदन सिंह, रांची : भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) नीत राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन को आगामी लोकसभा चुनाव में रोकने का मकसद लिए झारखंड में महागठबंधन का स्वरूप तय हो गया है. झारखंड मुक्ति मोर्चा (जेएमएम) के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन के आवास पर हुई बैठक में उन्हें नेता चुन लिया गया है. हालांकि सीट शेयरिंग पर फैसला 30 जनवरी को होगा.

बैठक के बाद बाबूलाल मरांडी ने कहा कि यह पहली मीटिंग हुई है. 31 जनवरी तक महागठबंधन को लेकर सबकुछ स्पष्ट हो जाएगा. उन्होंने कहा कि हमारा एक ही मकसद है केंद्र और राज्य में बीजेपी को रोकना, इसीलिए हम सभी साथ आए हैं. लोकसभा और विधानसभा चुनाव को लेकर सीट सेयरिंग से लेकर तमाम विषयों पर बीच फिर बैठक की जाएगी.

वहीं, राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) की प्रदेश अध्यक्ष अन्नपूर्णा देवी ने कहा कि हम सभी हेमंत सोरेन के नेतृत्व में आगामी चुनाव लड़ेंगे और सबकुछ 31 जनवरी तक स्पष्ट हो जाएगा. इस मौके पर कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष डॉ. अजय कुमार ने कहा कि आगामी विधानसभा चुनाव हेमंत सोरेन और लोकसभा चुनाव कांग्रेस की नेतृत्व में लड़ेंगे. उन्होंने कहा कि सीट शेयरिंग को लेकर हमारे प्रभारी आएंगे और बाबूलाल व हेमंत सोरेन के साथ बैठक कर तय कर लेंगे.

बैठक में कांग्रेस अध्यक्ष डॉ. अजय कुमार, विधायक दल नेता आलमगीर आलम, झाविमो प्रमुख बाबूलाल मरांडी, उपाध्यक्ष डॉ. सबा अहमद, झामुमो विधायक चंपई सोरेन, दशरथ गागराई, आरजेडी प्रदेश अध्यक्ष अन्नपूर्णा देवी, संजय सिंह यादव, मनोज भुईंया, सीपीएम के राज्य सचिव गोपीकांत बख्शी, सीपीआई के राज्य सचिव भुनेश्वर प्रसाद मेहता, केडी सिंह, माले के राज्य सचिव जनार्दन प्रसाद, मासस के राष्ट्रीय अध्यक्ष आनंद मेहता आदि शामिल हुए.

यह गठबंधन लोकसभा और विधानसभा चुनाव के लिए होगा. दोनों चुनाव के लिए सीट शेयरिंग पर फैसला 31 जनवरी को होगा. इसके पूर्व सभी दल अपनी-अपनी बैठक कर सीट का चयन करके लाएंगे, जिस पर फैसला होगा. यह निर्णय हेमंत सोरेन के आवास पर विपक्षी दलों की बैठक में लिया गया.