close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बिहार : बहुचर्चित योगियां हत्याकांड में एक को आजीवन, 18 को 10 वर्ष कठोर कारावास की सजा

बिहार के बक्सर के बहुचर्चित योगियां हत्याकांड में शामिल 24 अभियुक्तों में से 19 अभियुक्तों को कोर्ट द्वारा सजा सुनाई गई, जिसमें एक आरोपी विवेक मिश्रा को आजीवन कारावास के साथ-साथ एक लाख रुपये जुर्माना वहीं, अन्य 18 अभियुक्तों को 10 वर्षों का कठोर कारावास के साथ-साथ 50-50 हज़ार जुर्माने की सजा सुनायी गई है. 

बिहार : बहुचर्चित योगियां हत्याकांड में एक को आजीवन, 18 को 10 वर्ष कठोर कारावास की सजा
योगियां हत्याकांड में कोर्ट का फैसला. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

रवि मिश्र/बक्सर : बिहार के बक्सर के बहुचर्चित योगियां हत्याकांड में शामिल 24 अभियुक्तों में से 19 अभियुक्तों को कोर्ट द्वारा सजा सुनाई गई, जिसमें एक आरोपी विवेक मिश्रा को आजीवन कारावास के साथ-साथ एक लाख रुपये जुर्माना वहीं, अन्य 18 अभियुक्तों को 10 वर्षों का कठोर कारावास के साथ-साथ 50-50 हज़ार जुर्माने की सजा सुनायी गई है. 

जुर्माने की राशि का 10 प्रतिशत पीड़ित परिवार को दिया जाएगा और शेष सरकारी खजाने में जमा कराया जाएगा. गुरुवार को व्यवहार न्यायालय के एडीजे 2 ज्योति स्वरूप श्रीवास्तव की अदालत के द्वारा इस मामले में फैसला सुनाया गया.

विवेक मिश्रा के अतिरिक्त सजा पाने वालों में राधेश्याम मिश्रा, राधा रमण मिश्रा, प्रदीप मिश्रा, अशोक मिश्रा, मुकेश चौधरी, सूर्य बली यादव, शशि मिश्रा, राकेश मिश्रा, चंदन मिश्रा, अभिषेक मिश्रा, मुकेश मिश्रा, ओंकार मिश्रा, त्रिपुरारी मिश्रा, दीपक मिश्रा, पप्पू मिश्रा, छोटू उपाध्याय, सरोज त्रिपाठी और संतोष मिश्रा शामिल हैं.

क्या है मामला?
16 अक्टूबर 2014 को नींबू तोड़ने के विवाद में योगियां गांव के रहने वाले प्रदीप यादव और नीरज यादव नामक दो युवकों की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. वहीं, मौके पर हुई फायरिंग में सात-आठ अन्य लोग जख्मी हो गए थे. मामले में मृतकों के परिजनों द्वारा 24 अभियुक्तों को नामजद बनाते हुए मामला दर्ज कराया गया था. 

पुलिस को चकमा देकर फरार है कुबेर
मामले में मुख्य आरोपी कुबेर मिश्रा पटना आईजीआईएमएस में इलाज के दौरान फरार हो गया था. जो कि अब तक पुलिस की पकड़ से बाहर है. उसपर 50 हज़ार रुपये का इनाम भी घोषित किया गया है. फरार होने के कारण मामले से कुबेर मिश्रा  को अलग कर दिया गया. वहीं, कुल 24 अभियुक्तों में एक अन्य पहले से ही जमानत पर हैं. वहीं, दो अन्य के नाबालिग हो जाने के कारण उसका मामला किशोर न्याय परिषद में लंबित है. वहीं अन्य दो पहले से ही सज़ा भुगत रहे हैं.