close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

चाईबासा: गोल्ड मेडल जीतकर भूटान से वासप लौटी पूजा, झारखंड का किया नाम रोशन

चक्रधरपुर जैसे छोटे से शहर से निकलकर पूजा बहरा भूटान के थिम्बू शहर में 4 से 6 अक्तूबर को हुए साउथ एशियन कराटे चैम्पियनशिप में हिस्सा ली. 

चाईबासा: गोल्ड मेडल जीतकर भूटान से वासप लौटी पूजा, झारखंड का किया नाम रोशन
भूटान से वापस लौटी पूजा.

चाईबासा: चक्रधरपुर की कराटे ब्लैक बेल्ट पूजा बेहरा ने साऊथ एशियन ओपन कराटे चैम्पियनशिप ( Judo Championships ) में गोल्ड मेडल जीतकर अपने शहर चक्रधरपुर के साथ-साथ झारखंड ( Jharkhand ) और देश का नाम रोशन किया है. इस्पात एक्सप्रेस ट्रेन से चक्रधरपुर लौटने पर पूजा बेहरा का लोगों ने चक्रधरपुर स्टेशन पर गुलदस्ता भेंटकर स्वागत किया. इसी के साथ स्टेशन पर मौजूद आरपीएफ के जवानों ने भी पूजा बेहरा की इस उपलब्धि के लिए उन्हें बधाई दी.

चक्रधरपुर जैसे छोटे से शहर से निकलकर पूजा बहरा भूटान के थिम्बू शहर में 4 से 6 अक्तूबर को हुए साउथ एशियन कराटे चैम्पियनशिप में हिस्सा ली. इस चैम्पियनशिप में भारत, भूटान, श्रीलंका, नेपाल और बांग्लादेश के कराटे खिलाडियों ने भाग लिया.

पूजा बेहरा के कराटे कौशल के सामने सारे देश के कराटे खिलाड़ी पस्त हो गए. पूजा ने सेमीफाइनल में नेपाल को पटखनी देकर फाइनल में जगह बनाई. उसके बाद फाइनल में पूजा ने जबरदस्त कराटे कौशल का प्रदर्शन कर भूटान के खिलाड़ी को चित कर दिया और गोल्ड मेडल अपने नाम कर लिया.

पूजा बेहरा साल 2017 से कराटे की कला सिख रही हैं. पूजा में कराटे की हर उंचाई को छूने की ललक है. माता पिता भी पूरा सहयोग कर रहे हैं. पूजा बेहरा का कहना है कि कराटे न सिर्फ एक खेल है, बल्कि इस खेल से आपका शरीर स्वस्थ और मजबूत रहता है. यह एक ऐसी कला है, जिससे खासकर महिलाओं को आत्मरक्षा में सबल बनाती है.

सरकार को इस खेल और इस खेल से जुड़े खिलाडी और एकेडमी को और प्रोत्साहन देने की जरुरत है. पूजा का विदेशी धरती पर पहला प्रदर्शन है. आनेवाले दिनों में अन्य अंतरराष्ट्रीय स्पर्धाओं में वो इससे भी अच्छा प्रदर्शन कर देश का नाम रोशन करेगी. माता-पिता भी पूजा बेहरा के प्रदर्शन से काफी गौरान्वित हैं.   

-- Jyoti, News Desk