गोपालगंज के DM की तरह केरल में IAS ने खाया मिड डे मील, सोशल मीडिया पर यूं मिली तारीफ

केरल में एक IAS अफसर ने सरकारी स्‍कूल में मिड डे मील की गुणवत्‍ता जांचने के लिए खुद बच्‍चों के साथ बैठकर भोजन किया.

गोपालगंज के DM की तरह केरल में IAS ने खाया मिड डे मील, सोशल मीडिया पर यूं मिली तारीफ
डिस्ट्रिक्‍ट कलेक्‍टर एस. सुहास ने कहा कि उनकी स्‍कूल में यात्रा का उद्देश्‍य बच्‍चों को मिड डे मील के तहत परोसे जाने वाले भोजन की गुणवत्‍ता परखना था. (फाइल फोटो)
Play

नई दिल्‍ली: केरल में एक IAS अफसर ने सरकारी स्‍कूल में मिड डे मील की गुणवत्‍ता जांचने के लिए खुद बच्‍चों के साथ बैठकर भोजन किया. नीरकुन्‍नम की इस घटना को सोशल मीडिया पर काफी तवज्‍जो मिल रही है. अफसर की लोगों ने काफी प्रशंसा की है. अलपुझा के डिस्ट्रिक्‍ट कलेक्‍टर एस. सुहास पूर्व जिला स्‍तरीय शिक्षा निदेशक केपी लथीका के साथ भोजनावकाश में श्री देवी विलासम यूपी गवर्नमेंट स्‍कूल अचानक पहुंचे. उन्‍होंने वहां पहुंचकर बच्‍चों को परोसे जा रहे भोजन की गुणवत्‍ता जांचा. उसके बाद उनके साथ ही खाना खाने बैठ गए. इसकी तस्‍वीर जब फेसबुक पर पोस्‍ट हुई तो उन्‍हें काफी सराहना मिली.

न्‍यूज18 की खबर के मुताबिक डिस्ट्रिक्‍ट कलेक्‍टर एस. सुहास ने कहा कि उनकी स्‍कूल में यात्रा का उद्देश्‍य बच्‍चों को मिड डे मील के तहत परोसे जाने वाले भोजन की गुणवत्‍ता परखना था. उस स्‍कूल में इसलिए गए क्‍योंकि वहां सबसे ज्‍यादा बच्‍चे पढ़ते हैं. उन्‍होंने बताया कि उन्‍हें भोजन में चावल के साथ हल्‍दी लस्‍सी, खीरे की सब्‍जी और आलू फ्राई परोसा गया. इसके बाद आईएएस अफसर ने स्‍कूल की लाइब्रेरी और कम्‍प्‍यूटर लैब का भी मुआयना किया. स्‍कूल के हेडमास्‍टर ने अफसर से जगह की कमी की शिकायत की.

यह भी पढ़ें : बिहार में डीएम ने समाज को दिखाया आईना, विधवा का बनाया मध्याह्न भोजन खाया

गोपालगंज के डीएम ने 2015 में पेश की थी मिसाल
बिहार के गोपालगंज के युवा कलेक्टर राहुल कुमार भी ऐसी ही मिड डे मील से संबंधि‍त एक घटना को लेकर चर्चा में आए थे. स्‍कूल में एक विधवा को मिड डे मील बनाने से रोकने की खबर मिलने पर डीएम राहुल ने खुद स्कूल पहुंचकर उसी विधवा के हाथ का बना खाना खाया. सोशल साइटों पर इस युवा आईएएस को लोगों ने सैल्‍यूट किया था. झारखंड कैडर की एक आईएएस ने फेसबुक पर इसकी तारीफ की थी. राहुल कुमार की गोपालगंज में बतौर डीएम पहली पोस्टिंग थी. वह बिहार के पूर्वी चंपारण जिले के घोड़ासहान इलाके के रहने वाले हैं.