close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बिहार: किशनगंज विधानसभा उपचुनाव में आया दिलचस्प मोड़, बीजेपी को लगा बड़ा झटका

चुनाव से ठीक पहले ही प्रत्याशियों के बीच सियासी खेल भी शुरू भी हो गया है. एआईएमआईएम से नाराज चल रहे निर्दलीय उम्मीदवार तसिरुद्दीन की घर वापसी की बात भी सामने आ रही है. 

 बिहार: किशनगंज विधानसभा उपचुनाव में आया दिलचस्प मोड़, बीजेपी को लगा बड़ा झटका
तसीरउद्दीन ने एआईएमआईएम के उम्मीदवार कमरुल हुदा को अपना समर्थन दिया है.

किशनगंज: बिहार के किशनगंज विधानसभा सीट पर 21 अक्टूबर को विधानसभा उपचुनाव होने वाली है. लेकिन चुनाव से ठीक पहले ही प्रत्याशियों के बीच सियासी खेल भी शुरू भी हो गया है. एआईएमआईएम से नाराज चल रहे निर्दलीय उम्मीदवार तसिरुद्दीन की घर वापसी की बात भी सामने आ रही है. 

तसीरउद्दीन ने एआईएमआईएम के उम्मीदवार कमरुल हुदा को अपना समर्थन दिया है. जिससे किशनगंज की राजनीति में एक बड़ा बदलाव आया है. हम आपको बता दें कि एआईएमआईएम से टिकट नहीं मिलने से नाराज तसीरउद्दीन ने निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में चुनावी मैदान उतरे थे जो एआईएमआईएम और कांग्रेस दोनों पार्टियों के लिए बड़ा नुकसान माना जा रहा था.
 

इसका फायदा बीजेपी को मिलने की संभावना जताई जा रही थी लेकिन तसीर के चुनावी मैदान से बाहर होने से अब नया मोड़ सामने आया है. इससे बीजेपी को बड़ा झटका लगा है. तसीरउद्दीन ने अपनी राजनीति की कुर्बानी विधानसभा चुनाव 2020 को देखते हुए दिया है.

उनका कहना है कि पार्टी सुप्रीमों असदुद्दीन औवेसी और प्रदेश अध्यक्ष अख्तरुल इमान के आश्वासन पर उन्होंने पार्टी के हित में फैसला लिया है. वहीं, एआईएमआईएम के प्रत्यासी कमरुल हुदा ने कहा है कि तसिरुद्दीन की घर वापसी से अब बीजेपी और कांग्रेस के इरादे पर पानी फिर जायेगा जबकि एआईएमआईएम प्रदेश अध्यक्ष अख्तरुल का कहना है कि अब निश्चित रूप से जीत एआईएमआईएम की होगी.