रांची: तमाड़ से मैदान में उतरेगा नक्सली कुंदन पाहन! कोर्ट ने दी है चुनाव लड़ने की अनुमति

कुंदन पाहन के वकील ईश्वर दयाल किशोर ने एनआईए की विशेष अदालत में पिछले शुक्रवार को आवेदन दिया था, जिस पर सोमवार को सुनवाई हुई. 

रांची: तमाड़ से मैदान में उतरेगा नक्सली कुंदन पाहन! कोर्ट ने दी है चुनाव लड़ने की अनुमति
नक्सली कुंदन पाहन पूर्व मंत्री रमेश सिंह मुंडा की हत्या का आरोपी है. (फाइल फोटो)

रांची: झारखंड के पूर्व मंत्री रमेश सिंह मुंडा की हत्या के आरोपी नक्सली कुंदन पाहन को अदालत से विधानसभा चुनाव (Assembly Election) लड़ने की इजाजत मिलने के बाद इसकी पूरी संभावना है कि वह तमाड़ से चुनाव लड़ेगा. राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) के विशेष न्यायाधीश नवनीत कुमार ने सोमवार को नक्सली कुंदन पाहन को विधानसभा चुनाव लड़ने की अनुमति दे दी.

कुंदन पाहन के वकील ईश्वर दयाल किशोर ने एनआईए की विशेष अदालत में पिछले शुक्रवार को आवेदन दिया था, जिस पर सोमवार को सुनवाई हुई. किशोर ने बताया, 'पाहन ने समाज सेवा के लिए चुनाव लड़ने की इच्छा जताई है, जिसके लिए उन्होंने अदालत से अनुमति मांगी थी.' 

उन्होंने मंगलवार को बताया कि पाहन 15 या 16 नवंबर को नामांकन करेंगे. सूत्रों का कहना है कि पाहन तमाड़ विधानसभा क्षेत्र (Tamar Vidhansabha seat) से चुनाव लड़ेंगा. पाहन से जुड़े लोगों के अनुसार, कुंदन पाहन किसी पार्टी से ही मैदान में उतरेगा. इसके लिए दो-तीन पार्टियों के साथ बातचीत चल रही है.

सूत्रों का कहना है कि अगर कोई पार्टी पाहन को टिकट नहीं देती है तब भी उनका निर्दलीय चुनाव लड़ना तय है. बता दें कि कुंदन पाहन तमाड़ के पूर्व विधायक रमेश सिंह मुंडा हत्याकांड का मुख्य आरोपी है. 

मुंडा हत्या मामले के एक अन्य आरोपी पूर्व विधायक गोपाल कृष्ण पातर उर्फ राजा पीटर भी जेल में बंद हैं. इन्हें भी अदालत द्वारा जेल से चुनाव लड़ने की अनुमति मिल चुकी है. वहीं, मौजूदा विधायक विकास मुंडा एक बार फिर से चुनावी मैदान में उतरेंगे. इस कारण तमाड़ का मुकाबला दिलचस्प होने की संभावना है.

तमाड़ विधानसभा हमेशा से चर्चा के केंद्र में रहा है. वर्ष 2009 के उपचुनाव में राज्य के कद्दावर नेता और तत्कालीन मुख्यमंत्री शिबू सोरेन तमाड़ विधानसभा चुनाव हार गए थे. उनके हारते ही जेएमएम (JMM), काग्रेस और आरजेडी (RJD) गठबंधन की सरकार गिर गई थी और राज्य में राष्ट्रपति शासन लग गया था. जेडीयू (JDU) के प्रत्याशी राजा पीटर ने उन्हें पराजित किया था. 

पाहन ने 2017 में पुलिस के समक्ष समर्पण किया था. उसके वकील के अनुसार, कुंदन पाहन पर किसी समय तीन जिलों रांची, खूंटी और चाईबासा में 120 से अधिक मामले दर्ज थे. फिलहाल पाहन 50 से अधिक मामलों का आरोपी है. वर्तमान में वह हजारीबाग जेल में बंद है. उल्लेखनीय है कि तमाड़ के तत्कालीन विधायक और पूर्व मंत्री रमेश सिंह मुंडा की नौ जुलाई, 2008 को हत्या कर दी गई थी.