close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

झारखंड: मासूम को देख उमड़ा महिला का प्यार, लोगों ने 'बच्चा चोर' समझकर पीटा

पिटाई करने के दौरान महिला को बंधक भी बना लिया. वहीं मामले की सूचना पर महिला को बचाने पहुंची पुलिस पर भी पथराव किया गया. पथराव से पुलिस वाहन का शीशा भी टूट गया. बाद में काफी मशक्कत कर पुलिस ने भीड़ के चंगुल से महिला को बचाया. 

झारखंड: मासूम को देख उमड़ा महिला का प्यार, लोगों ने 'बच्चा चोर' समझकर पीटा
बाद में काफी मशक्कत कर पुलिस ने भीड़ के चंगुल से महिला को बचाया.

गिरिडीह: झारखंड के गिरिडीह में बच्चा चोरी करने के शक पर भीड़ने एक महिला की जमकर पिटाई कर दी. पिटाई करने के दौरान महिला को बंधक भी बना लिया. वहीं मामले की सूचना पर महिला को बचाने पहुंची पुलिस पर भी पथराव किया गया. पथराव से पुलिस वाहन का शीशा भी टूट गया. बाद में काफी मशक्कत कर पुलिस ने भीड़ के चंगुल से महिला को बचाया. 

यह मामला मुफस्सिल थाना इलाके के अकदोनी गांव के समीप का है. मिली जानकारी के अनुसार अकदोनी गांव की एक महिला ललिता देवी अपनी एक बेटी और दूधमुंहे बच्चे को लेकर सोमवार यूनियन बैंक ऑफ इंडिया गयी थी. ललिता अपनी 8 वर्ष की बेटी औ बच्चे को बैंक के बाहर छोड़कर अंदर चली गयी. दोपहर लगभग 3.15 बजे ललिता बैंक के बाहर निकली तो देखा कि उसका दो साल का बेटा और बेटी वहां पर नहीं है. 

झारखंड
फोटो साभार: ANI

इस बीच ललिता की नजर एक दूसरी महिला पर पड़ी जो उसके बच्चे को गोद में लिये हुई थी. जिसके बाद ललिता को शक हुआ की उक्त महिला उसके बेटे को लेकर भाग रही है. इस शक पर ललिता ने महिला को पकड़ लिया और उसे पकड़ कर अकदोनी ले जाने लगी. इस बीच अगदोनी में हल्ला हो गया कि ललिता के बच्चे की चोरी करते एक महिला को पकड़ा गया है. जिसके बाद कुछ लोगों ने उक्त महिला को बच्चा चोर कह दिया और भीड़ महिला पर टूट पड़ी.

 

पुलिस की हुई फजीहत
इधर घटना की सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची तो वहां दो सौ से अधिक लोगों की भीड़ जमा हो चुकी थी. लोग आरोपी महिला को घेरे हुए थे और उसे पीट रहे थे. पुलिसकर्मी सनी हलदर ने भीड़को समझा कर महिला को निकालने की कोशिश लेकिन पुलिस कर्मियों के साथ ही धक्का-मुक्की होने लगा. स्थित अनियंत्रित होता देख पुलिस अधिकारी व जवान पीछे हटने लगे तो कुछ लोगों ने पुलिस पर ही पथराव कर दिया. लगभग पांच मिनट तक पत्थर चलता रहा जिसके बाद पुलिस की टीम वाहन पर बैठकर किसी तरह गांव से निकली. हालांकि पथराव से पुलिस के वाहन का शीशा क्षतिग्रस्त हो गया. 

अतिरिक्त बल को बुलाया गया
स्थिति की जानकारी मिलते ही एसडीपीओ, थाना प्रभारी के साथ सअनि जितेन्द्र कुमार, संजय सिंह समेत कई पदाधिकारी पहुंचे. भीड़ से महिला को निकालकर किसी तरह से थाना लाया गया. वहीं, गांव से दो महिलाओं, एक पुरूष को पकड़ कर थाना लाया गया. जबकि आरोप लगानेवाली ललिता देवी व उसके पति संजय दास को भी थाना लाया गया.

झारखंड
फोटो साभार: ANI

पीड़ित महिला ने कहा कि वो बच्चे को बस प्यार कर रही थी
पीड़ित महिला चिलगा की रहनेवाली है. पीड़िता ने कहा कि वह दोपहर में बैंक आई थी. बैंक के समीप मासूम बच्चा मिला तो वह उसके साथ खेलने लगी जिसके बाद बच्चे की मां को शक हुआ कि वह बच्चे की चोरी कर रही है. लीलावती ने कहा कि इसके बाद उसकी बेरहमी से पिटाई की गयी. वह बार-बार कहती रही की वह बच्चे को प्यार से खेला रही थी लेकिन कोई भी उसकी बातों को सुनने को तैयार नहीं हुआ.

बच्चे की मां ने कहा- गलती हो गई
इधर आरोप लगानेवाली महिला ललीता देवी को थाना लाकर पूछताछ की गयी तो उसने पुलिस के समक्ष कहा कि उससे गलती हो गयी. चंद मिनट के लिये बच्चे को नहीं देखकर वह परेशान हो गयी थी. वहीं जब बच्चा दूसरी महिला की गोदी में देखा तो उसे लगा कि उसके बच्चे को उठाकर उक्त महिला ले जा रही है इसी गलतफहमी के कारण यह घटना घट गयी. 

इधर एसडीपीओ जीतबाहन उरांव ने बताया कि गलतफहमी के कारण एक महिला की पिटाई कुछ लोगों ने कर दी. समय पर सूचना मिलते ही मुफस्सिल पुलिस ने त्वरित कार्रवाई की और महिला को बचाया गया.