ललन सिंह-नीरज कुमार पहुंचे बाढ़ क्षेत्र, विकासकार्यों की समीक्षा की, NHAI को लेकर दिए निर्देश

उन्होंने कहा कि टेंडर निकल चुका है, जल्द ही टेंडर की प्रक्रिया भी पूरी कर ली जाएगी. इसके बाद अगले 15-20 दिनों के अंदर काम शुरू हो जाएगा.

ललन सिंह-नीरज कुमार पहुंचे बाढ़ क्षेत्र, विकासकार्यों की समीक्षा की, NHAI को लेकर दिए निर्देश
ललन सिंह-नीरज कुमार पहुंचे बाढ़ क्षेत्र, विकासकार्यों की समीक्षा की, NHAI को लेकर दिए निर्देश. (फाइल फोटो)

पटना: लोकसभा में जेडीयू संसदीय दल के नेता राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह एवं सूचना जनसंपर्क के मंत्री नीरज कुमार आज समीक्षात्मक बैठक में अनुमंडल कार्यालय बाढ़ पहुंचे, जहां मीडिया से रुबरु होकर उन्होंने बैठक से संबंधित विषयों की विस्तृत जानकारी दी व निष्पादन को लेकर आश्वस्त किया.

उन्होंने बताया कि कई तरह की समस्याओं और योजनाओं पर चर्चा हुई, समीक्षा हुई. क्षेत्रीय किसानों से जानकारी मिल रही थी कि कृषि इनपुट सब्सिडी मिलने में समस्या हो रही है. 

बाढ़ नगर परिषद क्षेत्र में पेयजल की समस्या, उमानाथ गंगा घाट पर पर्यटन विभाग ने सर्वेक्षण किया है, शवदाह गृह बनाया जाना है. इसके अतिरिक्त भी कई विकास कार्य अभी बाकी है जिसके बारे में जेडीयू सांसद जानकारी दे रहे थे. इन सब के समीक्षोपरांत एक तय समय सीमा के अंदर पूर्ण करने का निर्देश दिया है.

उन्होंने बताया कि बाढ़ नगर परिषद से जुड़े कुछ मामलों में मंत्री नीरज कुमार ने अनुमंडल पदाधिकारी, बाढ़ को निर्देश दिया है कि वो नगर परिषद की समीक्षा करें और एक विशेष प्रतिवेदन दें. आवश्यकता पड़ने पर बिहार प्रदेश के नगर विकास विभाग से टीम भिजवाकर जाच करवाई जाएगी.

जेडीयू सांसद ने कहा कि बख्तियारपुर-मोकामा सड़क के मरम्मतीकरण में सबसे बड़ी समस्या है यह है कि ये नेशनल हाईवे है राज्य सरकार इसकी मरम्मत नहीं कर सकती. इसके रख रखाव की जिम्मेदारी भारत सरकार की एजेंसी NHAI के पास होती है. इस NH-31 पथ के मरम्मतीकरण के लिए बिहार सरकार ने भारत सरकार से बातचीत कर रास्ता निकाला है. 

उन्होंने कहा कि टेंडर निकल चुका है, जल्द ही टेंडर की प्रक्रिया भी पूरी कर ली जाएगी. इसके बाद अगले 15-20 दिनों के अंदर काम शुरू हो जाएगा.

इसी क्रम में सांसद ललन सिंह और मंत्री नीरज कुमार से आमने सामने की भिड़ंत में वीरगति को प्राप्त समस्तीपुर जिला के मूल निवासी अमन सिंह राजपूत के ससुराल राणा बिगहा जाकर उनके शोकाकुल परिजनों से मुलाकात कर कुशलक्षेम लिया और शहादत को गौरवपूर्ण बताते हुए सांत्वना दिया. 

मालूम हो कि मुख्यमंत्री ने चीन से भिड़ंत में मातृभूमि की रक्षा में प्राण न्योछावर करने वाले शहीदों के परिवार से एक आश्रित को सरकारी नौकरी देने के साथ साथ 36 लाख रुपए अनुग्रह अनुदान देने का निर्णय लिया है.

सांसद और मंत्री ने बाढ़ विधानसभा क्षेत्र के शहरी ग्राम जाकर स्व. वीरेंद्र महतो के परिजनों से मुलाकात की जिनकी परसों हत्या कर दी गई थी. शोक में परिवार को उन्होंने आश्वस्त किया कि हत्यारे जल्द ही कानूनी गिरफ्त में होंगे. कानून का राज है, कितना भी बड़ा सूरमा हो कोई बच नहीं सकता.