बिहार में बाढ़ प्रभावित लोगों से बोले लालू यादव- 'आपलोग भाग्यशाली है कि गंगा आपके घर आई'

राष्ट्रीय जनता दल के मुखिया लालू यादव ने सोमवार को बिहार में बाढ़ प्रभावित इलाकों का दौरा किया। इस दौरान बाढ़ को लेकर वह काफी कुछ मजाकिया अंदाज में बोल गए। उनके मजाक की हद तो तब हो गई जब उन्होंने बाढ़ प्रभावित लोगों से कहा कि आप भाग्यशाली है कि गंगा आपके घर आई है।

बिहार में बाढ़ प्रभावित लोगों से बोले लालू यादव- 'आपलोग भाग्यशाली है कि गंगा आपके घर आई'

नई दिल्ली: राष्ट्रीय जनता दल के मुखिया लालू यादव ने सोमवार को बिहार में बाढ़ प्रभावित इलाकों का दौरा किया। इस दौरान बाढ़ को लेकर वह काफी कुछ मजाकिया अंदाज में बोल गए। उनके मजाक की हद तो तब हो गई जब उन्होंने बाढ़ प्रभावित लोगों से कहा कि आप भाग्यशाली है कि गंगा आपके घर आई है।

लालू ने इस दौरान बाढ़ प्रभावित लोगों से कहा- 'आप लोग हमेशा कहते रहते थे गंगा एक हाथ नीचे है, नीचे है। पांच साल से बाढ़ नहीं आया और देखिए इस साल बाढ़ आ गई। लालू यादव ने बाढ़ पीड़ितों से कहा, 'हर किसी को आजकल गंगा का जल नहीं मिलता। आपलोग भाग्यशाली हैं, गंगा सबको बचाएगी। आप भाग्यशाली है कि गंगा आपके घर आई है। भगवान से मनाइए कि बाढ़ खत्म हो'

उन्होंने कहा कि सरकार की तरफ से सारा इंतजाम किया जा रहा है। सरकार रात-दिन बाढ़ पीड़ितों को राहत पहुंचाने में लगी हुई है। नाव की कमी पर लालू प्रसाद ने कहा, 'सब और तो डूब ही गया किससे नाव छीन लें। सरकार नाव का इंतजाम करने में लगी है। लालू बाढ़ पीड़ितों को यह समझाने की कोशिश कर रहे थे कि पहले बाढ़ के पानी से बचने का उपाय करो। बाद में सब ठीक हो जाएगा।

गौर हो कि बिहार में गंगा नदी का जलस्तर पांच स्थानों पर उच्चतम स्तर पर बने रहने के कारण प्रदेश में बाढ की स्थिति विकट बनी रही। गंगा नदी के जलस्तर में अप्रत्याशित वृद्धि के कारण खगड़िया जिलान्तर्गत इस नदी के बांये तट पर अवस्थित लगार जमींदारी बांध के कारण दो स्थलों पर तटबंध क्षतिग्रस्त हो गया है। बाढ़ रोक कार्य कराकर स्थल को सुरक्षित करने की कार्रवाई की जा रही है।

बिहार में गंगा नदी के बढ़े हुए जल स्तर एवं तेज जल प्रवाह के कारण इस नदी के किनारे अवस्थित जिलों यथा बक्सर, भोजपुर, पटना, वैशाली, सारण, बेगूसराय, समस्तीपुर, लखीसराय, खगड़िया, मुंगेर, भागलपुर एवं कटिहार जिलों में कमोबेस बाढ़ की स्थिति उत्पन्न हो गयी है। पटना, वैशाली, भोजपुर एवं सारण जिला के दियारा क्षेत्र (नदी किनारे वाले इलाके) बाढ़ से अधिक प्रभावित हैं। आपदा प्रबंधन विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार बाढ़ से प्रभावित सभी जिलों में राहत एवं बचाव कार्य जारी है।

अब तक करीब 139330 लोगों को बाढ़ग्रस्त स्थान से बाहर निकालकर सुरक्षित स्थान पर लाया गया है जिनमें से 105000 लोगों को 162 राहत शिविरों में रखा गया है। बाढ प्रभावित इलाकों में 1537 नावों का परिचालन किया जा रहा है तथा एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीमें राहत एवं बचाव कार्य में लगी हुई हैं।

(एजेंसी इनपुट के साथ)