close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

लंबे समय के बाद सामने आई लालू यादव की तस्वीर, रिम्स की खिड़की से किया अभिवादन

जमानत मिलने के एक दिन बाद ही शनिवार को लालू यादव से मिलने के लिए कई नेता पहुंचे. जिसमें रघुवंश प्रसाद भी रिम्स अस्पताल पहुंचे थे.

लंबे समय के बाद सामने आई लालू यादव की तस्वीर, रिम्स की खिड़की से किया अभिवादन
लालू यादव रिम्स अस्पताल की खिड़की के पास से लोगों का अभिवादन किया.

रांचीः आरजेडी सुप्रीमो लालू यादव को एक मामले में जमानत मिलने के बाद उनके समर्थकों में काफी खुशी है. लोगों का मानना है कि अब जल्द ही उनके नेता बाहर आएंगे. वहीं, लालू यादव ने भी अपने समर्थकों का अभिवादन किया है. अभिवादन करते हुए उनकी तस्वीर सामने आई है.

लालू यादव को देवघर कोषागार मामले में झारखंड हाईकोर्ट ने शुक्रवार को जमानत दे दी है. हालांकि, उन्हें इस जमानत के बाद भी जेल से रिहाई नहीं मिलेगी. लेकिन खुशी है कि उनकी राह कुछ आसान हो गई है. क्योंकि अभी उन्हें अन्य तीन मामलों में अभी भी जमानत नहीं मिली है.

Lalu yadav Greetings to people from Rims window

वहीं, जमानत मिलने के एक दिन बाद ही शनिवार को लालू यादव से मिलने के लिए कई नेता पहुंचे. जिसमें रघुवंश प्रसाद भी रिम्स अस्पताल पहुंचे थे. इसके साथ ही लालू यादव ने रिम्स अस्पताल के खिड़की से अपने समर्थकों का उन्होंने अभिवादन किया है.

लालू यादव के सामने आने के बाद उनके समर्थकों में दोगुनी खुशी छा गई है. काफी लंबे समय से लालू यादव को नहीं देखा गया है. पिछली बार बेल खत्म होने के बाद जब वह फिर से रिम्स अस्पताल पहुंचे थे तो उन्हें देखा गया था. उसके बाद वह आज उन्हें आम लोगों ने देखा है.

आपको बता दें कि, लालू यादव जमानत के लिए काफी समय से कोर्ट में अर्जी दे रहे थे. लेकिन उन्हें राहत नहीं दी जा रही थी. लेकिन शुक्रवार को झारखंड हाईकोर्ट ने लालू यादव को बड़ी राहत दी. देवघर कोषागार मामले में सुनवाई करते हुए कोर्ट ने उन्हें जमानत देने का फैसला किया है. कोर्ट ने लालू यादव को 50 हज़ार के दो निजी मुचलके पर जमानत दिया है.

हालांकि, जमानत मिलने के बाद भी उन्हें जेल से रिहा नहीं किया जाएगा. क्योंकि उन पर चारा घोटाला मामले में देवघर, दुमका और चाईबासा तीनों मामलों में सजा हुई है. और दुमका और चाईबासा मामले में उन्हें अभी जामानत नहीं मिली है. इसलिए फिलहाल उन्हें जेल में ही रहना होगा.

देवघर मामले में लालू यादव को 3.5 साल की सजा हुई थी. वहीं, दुमका मामले में 5 साल की सजा हुई थी. इसके अलावा चाईबासा में दो मामले थे जिसमें 7-7 साल की सजा हुई थी.