close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

लोकसभा चुनाव : मुंगेर सीट पर होगा ललन सिंह और बाहुबली विधायक अनंत सिंह के बीच मुकाबला?

वर्तमान सांसद वीणा देवी ने भी मुंगेर सीट से फिर से चुनाव लड़ने का दावा किया है. 

लोकसभा चुनाव : मुंगेर सीट पर होगा ललन सिंह और बाहुबली विधायक अनंत सिंह के बीच मुकाबला?
क्या मुंगेर में होगी अनंत सिंह बनाम ललन सिंह की लड़ाई. (फाइल फोटो)

मुंगेर : बिहार के मुंगेर लोकसभा सीट पर इस बार पूरे देश की नजर रहेगी. संभावना जतायी जा रही है कि एक तरफ नीतीश कुमार के बेहद करीबी ललन सिंह चुनाव मैदान में होंगे वहीं, दूसरी तरफ इलाके के बाहुबली अनंत सिंह ने भी यहां से अपनी ताल ठोक दी है. अनंत सिंह ने दावा किया है कि यदि कोई पार्टी उन्हें उम्मीदवारी नहीं देती है तो वे बतौर निर्दलीय प्रत्याशी चुनाव मैदान में उतरेंगे. जातीय समीकरण की बात करें तो दोनों एक ही जाति से आते हैं.

मुंगेर लोकसभा सीट से 2014 में लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) से वीणा देवी सांसद बनी थी. उन्होंने जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) प्रत्याशी ललन सिंह को चुनाव हराया था. अब जेडीयू और लोजपा दोनों ही एनडीए गठबंधन में आ चुकी है. ऐसे में मुंगेर सीट पर इन दोनों पार्टियों की तरफ से दावेदारी पेश की जा रही है. फिलहाल ललन सिंह का दावा मजबूत दिख रहा है. 

वर्तमान सांसद वीणा देवी ने भी मुंगेर सीट से फिर से चुनाव लड़ने का दावा किया है. उन्होंने पार्टी और गठबंधन से बागी तेवर दिखाते हुए कहा था कि चाहे गठबंधन रहे या नहीं, वह मुंगेर से ही अगला चुनाव लड़ेंगी.

1952, 1957, 1962 और 1971 में मुंगेर लोकसभा सीट पर कांग्रेस पार्टी ने जीत दर्ज की थी. इमरजेंसी के बाद 1977 में हुए हुए लोकसभा चुनाव में जनता पार्टी ने इस सीट को जीता था. श्री कृष्ण सिंह यहां से एमपी बने थे. लेकिन 1980 और 1984 के चुनावों में यहां फिर से कांग्रेस पार्टी ने ही जीत दर्ज की थी. 1989 के चुनाव में यहां जनता दल जीती थी. 1991 में यहां सीपीआई का खाता खुला और ब्रह्मानंद मंडल सांसद बने. 1996 के लोकसभा चुनाव में भी वह दोबारा चुनाव जीते. इस बार वह समता पार्टी की टिकट पर चुनाव लड़ रहे थे.

1998 के चुनाव में इस सीट पर आरजेडी ने कब्जा जमाया, लेकिन अगले ही वर्ष हुए आम चुनाव में फिर ब्रह्मानंद मंडल ने जीत दर्ज की. 2004 के लोकसभा चुनाव में इस सीट पर आरजेडी ने जीत दर्ज की थी. 2009 में फिर जेडीयू ने यहां वापसी की और राजीव रंजन उर्फ लल्लन सिंह यहां से एमपी बने.