महागठबंधन के अंदर मंथन तेज, आप को शामिल कराने को लेकर जारी है ऊहापोह

इस बैठक में महागठबंधन में आप को शामिल किया जाए या नहीं, इस विषय पर चर्चा की गई. शरद यादव ने इस बाबत मनीष सिसोदिया से फोन पर बातचीत की. बैठक के बाद जानकारी मिली कि शरद यादव आज रांची जाएंगे और शनिवार को रिम्स में भर्ती लालू यादव से मुलाकात करेंगे. 

महागठबंधन के अंदर मंथन तेज, आप को शामिल कराने को लेकर जारी है ऊहापोह
महागठबंधन ने की बैठक, आप को गठबंधन में शामिल किए जाने को लेकर हुई चर्चा. (फाइल फोटो)

पटना: बिहार में विधानसभा चुनाव से पहले महागठबंधन के अंदर मंथन का दौर चल रहा है. शुक्रवार को महागठबंधन के सभी घटक दलों के नेताओं ने बैठक की. इस बैठक में आरएलएसपी के उपेंद्र कुशवाहा, वीआईपी के मुकेश सहनी, हम प्रमुख जीतनराम मांझी मौजूद रहे. लेकिन शरद यादव की अगुवाई में होने वाले इस बैठक में आरजेडी की ओर से कोई नेता मौजूद नहीं था.

इस बैठक में महागठबंधन में आप को शामिल किया जाए या नहीं, इस विषय पर चर्चा की गई. शरद यादव ने इस बाबत मनीष सिसोदिया से फोन पर बातचीत की. बैठक के बाद जानकारी मिली कि शरद यादव आज रांची जाएंगे और शनिवार को रिम्स में भर्ती लालू यादव से मुलाकात करेंगे. 

महागठबंधन नेताओं के लिए लालू यादव की राय बेहद अहम है. हालांकि बैठक के बाद शरद यादव ने कुछ भी कहने से किनारा किया. उन्होंने सिर्फ इतना कहा कि सीएम पद की उम्मीदवारी पर जो शरद यादव के नाम पर कयास चल रहा है, वह बेबुनियाद है.

उन्होंने कहा कि यह बिल्कुल झूठ बात है कि मैं महागठबंधन का चेहरा बनना चाहता हूं. उन्होंने कहा मैं दिल्ली का राजनीति करता हूं. मालूम हो कि बिहार में इसी वर्ष विधानसभा चुनाव होने वाला है. तमाम दल इस ऊहापोह में लगे हैं कि चेहरों को लेकर और दल की स्थिति को लेकर बातें साफ हो जानी चाहिए.

वहीं आरजेडी के प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी ने कहा कि महागठबंधन की बैठक नहीं हुई है. यह शरद यादव ने बैठक किया है जो आदरणीय नेता हैं और मधेपुरा से RJD के टिकट पर चुनाव लड़े थे. राष्ट्रीय कार्यकारणी के बैठक में भी आए थे. वह पटना आए हैं तो उनसे मुलाकात के लिए लोग गए हैं.

महागठबंधन की बैठक बिना राष्ट्रीय जनता दल के और बिना तेजस्वी यादव के कोई कल्पना कैसे कर सकता है. यह महागठबंधन की बैठक नहीं है. अनौपचारिक रूप से लोग शरद यादव से मिलने पहुंचे हैं. जो लोग कयास लगा रहे हैं तो आरजेडी स्पष्ट करती है कि किसी को कोई कंफ्यूजन नहीं होना चाहिए और ना ही आरजेडी कंप्रोमाइज करने जा रही है. तेजस्वी यादव ही महागठबंधन की ओर से मुख्यमंत्री के उम्मीदवार होंगे.

वैसे तो महागठबंधन में सभी दलों के साथ होने का दावा किया जाता है, लेकिन फिलहाल आरजेडी और कांग्रेस ने अपनी राहें अलग कर ली हैं. दोनों ही दल अकेले ही अपनी तैयारियों में लगे हुए हैं. वहीं आरएलएसपी-हम-वीआईपी ने एक बार फिर से साथ आने का मन बना रखा है. शरद यादव बचे-खुचे महागठबंधन के बीच संरक्षक की भूमिका में नजर आ रहे हैं.