खेमलता देवी हत्या मामले आया फैसला, दोषी भतीजे को आजीवन कारावास की मिली सजा

जमशेदपुर के कदमा के तानसा रोड में टाटा स्टील कर्मी कार्तिक राम की पत्नी खेमलता देवी की हत्या के लगभग 2 सालों के बाद आज कोर्ट ने दोषी बिनय कुमार उर्फ बीनू को कोर्ट ने सजा सुनाई. 

खेमलता देवी हत्या मामले आया फैसला, दोषी भतीजे को आजीवन कारावास की मिली सजा
बिनय कुमार को कोर्ट ने दोषी करार दिया और आजीवन कारावास की सजा सुनाई

जमशेदपुर: जमशेदपुर के कदमा के तानसा रोड में टाटा स्टील कर्मी कार्तिक राम की पत्नी खेमलता देवी की हत्या के लगभग 2 सालों के बाद आज कोर्ट ने आरोपी बिनय कुमार उर्फ बीनू को कोर्ट ने आजीवन कारावास और 20 हजार रूपए का जुर्माना भी लगाया है. जुर्माना नहीं देने पर कोर्ट ने छह महीने की सजा भी सुनाई है जो आजीवन कारावास के साथ-साथ चलेगी. 

हत्या की वारदात को अंजाम देने के एक साल 329 दिन बाद कोर्ट ने आरोपी को दोषी करार दिया और बिनय कुमार को फैसला सुनाने के बाद जेल भी भेज दिया गया है. इस मामले में कोर्ट कुल 11 गवाही हुई थी. आपको बता दें कि यह घटना 28 जून 2016 की है. कदमा तासा रोड स्थित क्वार्टर नं 80 में बिनय कुमार ने खेमलता देवी के साथ बलात्कार कर हत्या कर दी थी. 

पुलिस इस मामले में लंबे समय से जांच कर रही थी और आखिराकर पुलिस ने वैज्ञानिक तरीके से अनुसंधान शुरू किया. डीएनए जांच रिपोर्ट और मृतका के मिले मोबाइल फोन के कारण बिनय कुमार दोषी पाया गया. पुलिस ने दोषी के घर से मृतका का मोबाइल फोन बरामद किया था. बिनय कुमार से पूछताछ के बाद पुलिस ने उसका खून से सना जीन्स भी बरामद किया था. 

बाद में डीएनए टेस्ट के आधार पर पुलिस को मजबूत सुबूत मिले और इस मामले के दोषी बिनय कुमार को एडीजे-13 प्रभाकर कुमार की अदालत ने आइपीसी की धारा 302 और 201 के तहत आजीवन कारावास और 20 हजार रुपये जुर्माना की सजा सुनाई. इसकी जानकारी सहायक लोक अभियोजक ने दी.