close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

दरभंगा: अहिल्या महोत्सव का हुआ आगाज, पहले दिन मैथिली ठाकुर ने बांधा समा

इस मौके पर आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रम में भाग लेने पहुंची मैथिली ठाकुर को जाले विधायक जीवेश कुमार ने पाग चादर से स्वागत किया. मैथिली ठाकुर नें गानों से समा बांध दिया. 

दरभंगा: अहिल्या महोत्सव का हुआ आगाज, पहले दिन मैथिली ठाकुर ने बांधा समा
अहिल्या महोत्सव में मैथिली ठाकुर ने एक से बढ़कर एक प्रस्तुति दी. (तस्वीर- Twitter@MaithiliThakur)

दरभंगा: बिहार के दरभंगा जिला के जाले प्रखंड के अहियारी उत्तरी पंचायत स्थित ऐतिहासिक और पौराणिक स्थल अहिल्यास्थान में बिहार सरकार के पर्यटन विभाग द्वारा आयोजित दसवें त्रिदिवसीय राजकीय अहिल्या-गौतम महोत्सव अक्षय नवमी पूजन के साथ शुरू हुआ. इस मौके पर पंडित धीरेंद्र झा की अगुवाई में पूजन-हवन हुआ. इसके बाद भव्य कलश शोभा यात्रा निकाली गई. देर शाम कार्यक्रम का विधिवत उद्घाटन दीप जलाकर डीएम त्यागराजन, जयपुर के डीएम अभिमन्यु, विधायक जीवेश कुमार ने किया.

इस मौके पर आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रम में भाग लेने पहुंची मैथिली ठाकुर (Maithili Thakur) को जाले विधायक जीवेश कुमार ने पाग चादर से स्वागत किया. मैथिली ठाकुर नें गानों से समा बांध दिया. देर रात तक कार्यक्रम चलता रहा.

मैथिली ठाकुर ने एक से बढ़कर एक प्रस्तुति दी. उन्होंने 'राम जी से पूछे जनकपुर की नारी...', बता दे बबुआ..., छाप तिलक सब छीनी रे... जैसे गानों से उपस्थित श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर दिया. इस दौरान मैथिली ठाकुर ने कहा कि अपने घर में कार्यक्रम करने का उत्साह ही कुछ और होता है. मिथिला की देवभूमि पर अपनी प्रतिभा दिखाने को लेकर में खुद उत्साहित रहती हूं.

इस मौके पर बीजेपी प्रवक्ता और स्थानीय विधायक जीवेश कुमार ने कहा कि यह कार्यक्रम तीन दिवसीय है. पहले दिन के कार्यक्रम में स्थानीय कलाकारों के साथ-साथ मिथिला की बेटी मैथिली ठाकुर को आमंत्रण किया गया. वहीं, दूसरे दिन स्थानीय कलाकारों की प्रस्तुति होगी. तीसरे दिन इंदु सोनाली और रानी सिंह जैसे ख्याति प्राप्त कलाकरों से दर्शक रू-ब-रू होंगे.

वहीं, दरभंगा डीएम त्यागराजन एसएम ने कहा कि इस कार्यक्रम को लेकर लोगों में प्रचार-प्रसार किया गया है. इस मंच के माध्यम से स्थानीय कलाकारों के साथ-साथ ख्याति प्राप्त कलाकरों को भी अपनी प्रतिभा को दिखाने का मौका मिलेगा. अहिल्यास्थान और गौतम आश्रम का सर्वांगीण विकास किया जाएगा.