बिहार: मकर संक्रांति पर दिखेगी भोज की राजनीति, दिखेगी सियासत की असल तस्वीर

बिहार कांग्रेस प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सदानंद सिंह, प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा, राज्य सभा सांसद अखिलेश सिंह सहित कांग्रेस के बड़े नेता और विधायक शामिल हुए और दही-चूड़ा का लुत्फ उठाया. इस सियासी भोज के दौरान सियासी बयानबाजी भी हुई.  

बिहार: मकर संक्रांति पर दिखेगी भोज की राजनीति, दिखेगी सियासत की असल तस्वीर
मकर संक्रांति पर सियासी भोज का सिलसिला शुरू हो गया है.

पटना: बिहार के सियासी गलियारों में मकर संक्रांति का भोज हमेशा से सुर्खियां बटोरता रहा है. इस बार भी सियासी भोज का सिलसिला शुरू हो गया है. दही चूड़ा भोज की शुरुआत कांग्रेस के पूर्व मंत्री अवधेश कुमार सिंह की ओर से हुई. जिसमें बिहार कांग्रेस प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सदानंद सिंह, प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा, राज्य सभा सांसद अखिलेश सिंह सहित कांग्रेस के बड़े नेता और विधायक शामिल हुए और दही-चूड़ा का लुत्फ उठाया. इस सियासी भोज के दौरान सियासी बयानबाजी भी हुई.

वहीं, आज जेडीयू की ओर से वशिष्ठ नारायण सिंह भोज दे रहे हैं. इस भोज में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार समेत तमाम एनडीए नेता भाग लेंगे. कुछ नए चेहरे भी जेडीयू के भोज में दिख सकते हैं. सीएम नीतीश कुमार 12.20 बजे मुख्यमंत्री वशिष्ठ नारायण सिंह के आवास पहुंचेंगे.

लगभग 40 मिनट तक मुख्यमंत्री वशिष्ठ नारायण सिंह के आवास पर रहेंगे. वशिष्ठ नारायण सिंह के आवास में बीजेपी एमएलसी रजनीश के यहां जाएंगे मुख्यमंत्री. रजनीश की ओर से भी मकर संक्रांति पर भोज दिया गया है.

साथ ही महागठबंधन के नेता कांग्रेस के चूड़ा दही भोज में शामिल होंगे. कौन से नेता कांग्रेस के भोज में जाते हैं इस पर हर किसी की नजर रहेगी, विधानसभा चुनाव का साल होने की वजह से ये भोज बेहद महत्वपूर्ण माने जा रहे हैं.

आपको बता दें कि भोज से पहले आरजेडी और जेडीयू भी एक दूसरे के विधायकों के संपर्क में होने का किया दावा कर चुकी है. आज भोज के दौरान दिखेगी सियासत की असली तस्वीर नजर आएगी. 

महागठबंधन मकर संक्रांति पर दिखेग एक साथ
कांग्रेस के प्रदेश कार्यालय सदाकत आश्रम में भी मकर संक्रांति के भोज का आयोजन किया गया है. दही चूड़ा भोज का आयोजन महागठबंधन के सभी बड़े कर रहे हैं. शक्ति सिंह गोहिल, तेजस्वी यादव, उपेंद्र कुशवाहा, मुकेश साहनी मौजूद रहेंगे. 

साथ ही आपको बता दें कि विपक्ष की सभी पार्टियां पहले अपने पार्टी कार्यालय में दही चूड़ा भोज का आयोजन करती थी. लेकिन इस बार महागठबंधन की एकता दिखाने के लिए एक ही जगह किया गया है दही चुरा भोज का आयोजन किया गया है.