close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

गढ़वा: सदर अस्पताल में होता है खून का सौदा, ब्लड के बदले युवक ने मांगे 4200 रुपए

आरोप को स्वीकार करते हुए शख्स ने कहा कि यह कोई पहली दफा नहीं है कि उसके द्वारा खून बेचा गया है. यह धंधा यहां बदस्तूर जारी है. 

गढ़वा: सदर अस्पताल में होता है खून का सौदा, ब्लड के बदले युवक ने मांगे 4200 रुपए
ब्लड बैंक में खून बेचने की कोशिश.

गढ़वा: झारखंड का गढ़वा जिला, जिसे आप सूखा, अपराध और नक्सलवाद के रूप जानते हैं, लेकिन शायद ही इस बात से वाकिफ होंगे कि यहां खून भी बिकता है. जी हां, इस बात की तस्दीक खुद वही कर रहा है जो खून बेचने का प्रयास करते हुए लोगों के हत्थे चढ़ा. जिला अस्पताल परिसर में एक बीमार महिला को खून देने के एवज में एक शख्स ने 4200 रुपये मांगे.

आरोप को स्वीकार करते हुए शख्स ने कहा कि यह कोई पहली दफा नहीं है कि उसके द्वारा खून बेचा गया है. यह धंधा यहां बदस्तूर जारी है. आरोपी के अनुसार, चार लोगों का गैंग है, जिसके द्वारा रक्तदान में मिलने वाले खून को बड़ी कीमत पर निजी नर्सिंग होम में बेचा जाता है.

इसी गढ़वा के ब्लड डोनेशन से जुड़े लोग जिला से लेकर राज्य स्तर पर इसलिए पुरस्कृत होते हैं कि यहां बड़ी संख्या में लोगों से रक्तदान कराया जाता है. लेकिन इसके पीछे की सच्चाई पूरी तरह स्याह है. कभी ब्लड बैंक से लोगों को ब्लड नहीं मिला. लोग अब तक तो पूरी तरह अनजान थे कि इतनी संख्या में लोगों के द्वारा खून देने के बाद भी खून कहां चला जाता है.

अब सच्चाई जानकर सभी हैरान हैं. यहां तो उस खून बेचने का धंधा होता है. मरीज के परिजन जब ब्लड बैंक पहुंचे तो उन्हें सहूलियत से नियम अनुसार खून मिलने की जगह उनसे पैसों की मांग की गई. परिजन का कहना है कि मेरी ननद को खून की कमी हो गई थी. वसीम नाम के लड़के से बोला तो उसने कहा कि में व्यवस्था कर देता हूं. चार घंटे बीत जाने के बाद उसने कहा कि 4200 रुपए की व्यवस्था कीजिए तुरंत खून मिल जाएगा.

सबसे बड़ी विडंबना तो यह है कि इस बात की भनक गढ़वा के सिविल सर्जन को नहीं है. पुलिस ने आरोपी युवक को गिरफ्तार कर लिया है. साथ ही मामले की जांच भी की जा रही है.