close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बेगूसराय: आर्म्स एक्ट मामले में मंजू वर्मा पहुंची कोर्ट, जवाब देने के लिए मिला एक दिन

बेगूसराय फास्ट ट्रैक कोर्ट के अपर सत्र न्यायाधीश दीपक भटनागर के न्यायालय में सुनवाई होनी थी. इसे लेकर मंजू वर्मा और उनके पति चंद्र शेखर वर्मा कोर्ट भी पहुंचे. 

बेगूसराय: आर्म्स एक्ट मामले में मंजू वर्मा पहुंची कोर्ट, जवाब देने के लिए मिला एक दिन
चंद्रशेखर वर्मा के तार मास्टरमाइंड ब्रजेश ठाकुर से जुड़े होने के सबूत मिले थे.

बेगूसराय: बिहार के बेगूसराय में पूर्व मंत्री मंजू वर्मा और उनके पति चंद्र शेखर वर्मा पर आर्म्स एक्ट के मामले में आज सुनवाई होनी थी. बेगूसराय फास्ट ट्रैक कोर्ट के अपर सत्र न्यायाधीश दीपक भटनागर के न्यायालय में सुनवाई होनी थी. इसे लेकर मंजू वर्मा और उनके पति चंद्र शेखर वर्मा कोर्ट भी पहुंचे. 

मंजू वर्मा के वकील ललन कुमार के द्वारा कोर्ट में डिस्चार्ज पिटिशन दाखिल की गई. डिस्चार्ज पिटिशन पर सरकारी वकील ने जवाब देने के लिए 1 दिन का समय मांगा जिसके बाद न्यायालय के द्वारा सुनवाई को तिथि 23 अक्टूबर निर्धारित की गई है. कल डिस्चार्ज पिटिशन पर अधिवक्ताओं के द्वारा बहस की जाएगी जिसके बाद न्यायालय के द्वारा आरोप गठन के मामले में सुनवाई की जाएगी. 

मंजू वर्मा के अधिवक्ता ललन कुमार ने कहा कि कल सुनवाई के बाद आरोप पत्र के गठन पर सुनवाई होगी. हालांकि इस दौरान अधिवक्ता लल्लन कुमार ने कहा कि मंजू वर्मा के खिलाफ आर्म्स एक्ट मामले में किसी भी तरह का दोष नही होने की बात कहते हुए उन्हें राजनीति के तहत फंसाने की बात कही है. 

मंजू शर्मा के वकील ने कहा है कि इस केस में मैंने उनकी तरफ से डिस्चार्ज का पिटिशन दिया था. डिस्चार्ज के पिटीशन पर भी पीपी ने रिमाइंडर पर जवाब देने के लिए प्रतिउत्तर देने के लिए समय मांगा है. कल प्रतिउत्तर देने फिर दोनों तरफ से बहस होगी बहस होने के बाद न्यायालय चार्ज करने के लिए यह देखेगा कि कोई साक्ष्य है या नहीं है अगर साक्ष्य नहीं होगा तो डिस्चार्ज होंगे.

आपको बता दें कि मुजफ्फरपुर शेल्टर होम मामले में चंद्रशेखर वर्मा के तार मास्टरमाइंड ब्रजेश ठाकुर से जुड़े होने के सबूत मिले थे. जिसके बाद सीबीआई ने बेगूसराय स्थित आवास पर छापेमारी की थी. इस दौरान सीबीआई को कारतूस बरामद हुए. जांच में कारतूस अवैध माना गया. वहीं, सुप्रीम कोर्ट ने भी मंजू वर्मा और उनके पति की गिरफ्तारी के बारे में सीबीआई से सवाल पूछा था.