close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बिहार: BJP नेता संजय पासवान के बयान का पार्टी के कई नेताओं ने किया समर्थन, सियासत तेज

बिहार विधानसभा चुनाव में अभी एक साल का वक्त है. लेकिन एनडीए में मुख्यमंत्री पद का चेहरा कौन होगा, इसको लेकर विवाद लगातार गहराता जा रहा है. एक समय एनडीए के सर्वमान्य चेहरा रहे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर बीजेपी के नेता ही सवाल उठा रहे हैं.

बिहार: BJP नेता संजय पासवान के बयान का पार्टी के कई नेताओं ने किया समर्थन, सियासत तेज
बीजेपी की धुर विरोधी आरजेडी ने भी संजय पासवान का समर्थन किया है.

पटना: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर बीजेपी नेता संजय पासवान के बयान पर बिहार की राजनीति गरमाती जा रही है. अब बीजेपी की धुर विरोधी आरजेडी ने भी संजय पासवान का समर्थन किया है और कहा है कि न्याय के साथ विकास की बात करने वाले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार न्याय की राजनीति करते हैं या नहीं, ये देखनेवाली बात होगी. जबकि बीजेपी नेता कह रहे हैं कि संजय पासवान ने कार्यकर्ताओं की बात को आवाज दी है.

बिहार विधानसभा चुनाव में अभी एक साल का वक्त है. लेकिन एनडीए में मुख्यमंत्री पद का चेहरा कौन होगा, इसको लेकर विवाद लगातार गहराता जा रहा है. एक समय एनडीए के सर्वमान्य चेहरा रहे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर बीजेपी के नेता ही सवाल उठा रहे हैं. शुरुआत पूर्व केंद्रीय मंत्री संजय पासवान ने की, तो और भी नेता उनके समर्थन में आ गये. अब आरजेडी के नेता भी बीजेपी के समर्थन में उतर आए हैं.

 

आरजेडी नेता शिवानंद तिवारी ने कहा है कि अगर महागठबंधन के डेढ़ साल के शासनकाल को छोड़ दें, तो पिछले 13.5 साल से बीजेपी ने ही नीतीश कुमार को मुख्यमंत्री बना रखा है. उसी के समर्थन से नीतीश कुमार न्याय के साथ विकास की बात कहते आए हैं. हमें तो बीजेपी की मांग जायज लग रही है. अब देखना होगा, नीतीश कुमार न्याय की राजनीति करते हैं या नहीं.

बीजेपी के प्रवक्ता भी संजय पासवान के समर्थन में उतर आये हैं और कह रहे हैं कि उन्होंने पार्टी के कार्यकर्ताओं की बात सामने रखी है. बीजेपी के प्रवक्ता अजित चौधरी ने कहा है कि संजय पासवान ने बीजेपी कार्यकर्ताओं के मन की बात को सामने रखा है. आपने देखा है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार लंबे समय से हमारे समर्थन से सत्ता में हैं. उसी समय से सुशील मोदी भी डिप्टी सीएम हैं. इसके अलावा केंद्र सरकार में कई मंत्री हैं, जिसमें नित्यानंद राय जैसे नेता शामिल हैं, जो बिहार के मुख्यमंत्री के पद को अच्छी तरह से संभाल सकते हैं.

बीजेपी देश ही नहीं दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी है, जिसका परचम कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक लहरा रहा है. मुस्लिम देशों ने भी प्रधानमंत्री मोदी की तारीफ की है, उन्हें सम्मान दिया है. सब लोग बीजेपी के नेतृत्व का शासन चाहते हैं.

आरजेडी और बीजेपी नेताओं के बयान पर जेडीयू बचाव की मुद्रा में है. पार्टी के नेता ये जरूर कह रहे हैं कि 2020 में मुख्यमंत्री पद का चेहरा नीतीश कुमार ही होंगे, लेकिन ताजा राजनीतिक बयानों का जवाब कैसे दें इसके लेकर पसोपेश में हैं.

अगर चुनाव के हिसाब से देखें, तो 2005, 2010 और 2015 ऐसे चुनाव रहे हैं. जो मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के चेहरे पर जीते गये हैं, लेकिन देश और प्रदेश में बदले राजनीतिक हालात स्थिति को बदल दिया है. जिसमें जेडीयू की ओर से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को 2020 का चेहरा घोषित करने की कोशिश हो रही है, लेकिन परिस्थितियां साथ नहीं दे रही हैं.