close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पटना के कई इलाकों की स्थिति बुरी, खराब सड़कों के कारण टूट रही शादियां

सरकार हर गली और नाली को पक्का बनाने का निश्चय कर चुकी है. लेकिन राजधानी पटना के ही विकास विहार कॉलोनी में 1985 से ये कॉलोनी बसनी शुरू हुई थी. 

पटना के कई इलाकों की स्थिति बुरी, खराब सड़कों के कारण टूट रही शादियां
हालात ये हैं कि कॉलोनी में घर बना कर लोग पश्चाताप कर रहे हैं. (फाइल फोटो)

पटना: राजधानी पटना स्मार्ट सिटी में शामिल है, जिसके विकास को लेकर कई तरह की योजनाएं बनी हैं. लोहिया पथ चक्र बन रहा है, तो मेट्रो का शिलान्यास हो चुका है. यातायात व्यवस्था को दुरुस्त करने के लिए ड्राइव चलाए जा रहे हैं.

सरकार हर गली और नाली को पक्का बनाने का निश्चय कर चुकी है. लेकिन राजधानी पटना के ही विकास विहार कॉलोनी में 1985 से ये कॉलोनी बसनी शुरू हुई थी. लेकिन यहां अब तक सड़क नहीं बन पाई है. बिजली जरूर आ गई है. लेकिन सड़क को लेकर यहां के लोगों को सिर्फ आश्वासन ही मिलता रहा है.

 

बिहार सरकार चचरी खत्म करने की बात करती है. लेकिन वार्ड तीन की विकास विहार कॉलोनी में कुछ मकान ऐसे भी हैं, जहां चचरी के सहारे लोग आते-जाते हैं. विकास विहार में सड़क नहीं बनने से लोग घर में ताला बंद करके दूसरी जगह रहने जा रहे हैं. सड़क की हालत देख कर यहां की बेटियों की शादी भी टूट रही है, जिसको लेकर लोग परेशान हैं. 

कॉलोनी में घर बना कर लोग पश्चाताप कर रहे हैं. कह रहे हैं कि हमने यहां जमीन लेकर गलती कर दी है. यहां की स्थिति गांव से भी खराब है. कॉलोनी की सड़कों पर ईंट और पत्थर डाल कर चलने लायक बनाया गया है, लेकिन बारिश के समय यहां की स्थिति काफी खराब हो जाती है. 

स्कूली बच्चों से लेकर सबको परेशानी हो रही है. एम्स के एक डॉक्टर वेद प्रकाश से विकास विहार में घर बनाया, लेकिन सड़क नहीं बनने से वो घर को बंद करके चले गए. कॉलोनी में कई सड़कें ऐसी हैं, जहां कार नहीं जा सकती है. जिसकी वजह से जिन लोगों ने कार ली है, वो किराये पर गैरज लेकर कारें रखने को मजबूर हैं.