झारखंड: गढ़वा विधानसभा में हैं बीजेपी के कई दावेदार, सभी को है टिकट मिलने की उम्मीद

 झारखंड में बीजेपी की बात करें तो पार्टी पूरी तरह से चुनावी मोड में है और पार्टी को बस इंतजार है चुनावी तारीख का, पर बात करें गढ़वा विधानसभा में तो यहां भी पार्टी में टिकट के कई दावेदार हैं और सभी दावेदार को टिकट की उम्मीद है.

झारखंड: गढ़वा विधानसभा में हैं बीजेपी के कई दावेदार, सभी को है टिकट मिलने की उम्मीद
गढ़वा विधानसभा मेंबीजेपी के कई दावेदार हैं, जो टिकट की उम्मीद लगाए हुए हैं.

गढ़वा: झारखंड में बीजेपी विधानसभा चुनाव की बात करें तो गढ़वा विधानसभा में भी बीजेपी के कई दावेदार है. जो टिकट की उम्मीद लगाए हुए हैं. सभी दावेदार खुद को पार्टी पुराने, अनुशासित और अनुभवी कार्यकर्ता बताते हुए, टिकट मिलने पर जीत कर सीट पार्टी की झोली में डालने का दावा कर रहे हैं. 

सीटिंग विधायक सतेंद्र तिवारी, आरजेडी से बीजेपी में शामिल हुए गिरिनाथ सिंह, बलमुकुंद सहाय, अलख नाथ पांडेय और भगत सिंह साहू प्रमुख दावेदारों में शामिल हैं. झारखंड में बीजेपी की बात करें तो पार्टी पूरी तरह से चुनावी मोड में है और पार्टी को बस इंतजार है चुनावी तारीख का, पर बात करें गढ़वा विधानसभा में तो यहां भी पार्टी में टिकट के कई दावेदार हैं और सभी दावेदार को टिकट की उम्मीद है.

फिलहाल ये विधानसभा सीट बीजेपी के ही खाते में है और सत्येंद्र नाथ तिवारी यहां से विधायक है तो साथ ही पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष भी हैं. सत्येंद्र कास्ट फेक्टर से लेकर अनुभव के मामले में खुद को फिट मानते हैं तो हाल ही में लोकसभा चुनाव के समय राजद छोड़कर बीजेपी में शामिल होने वाले गिरिनाथ सिंह खुद को टिकट का दाबेदार मानते हैं और खुद को बचपन से संघी बताते हैं.

उनके पिता भी जनसंघ से विधायक रह चुके हैं तो गढ़वा से ही आने वाले बालमुकुंद सहाय भी टिकट के लिए अपनी दावेदारी जता चुके हैं और खुद को पार्टी का अनुशासित सिपाही बताते हुए कहते हैं पार्टी ने जब जो जिम्मेदारी दी है उसे पूरा किया है.

गढ़वा विधानसभा से ही टिकट के दावेदरों की बात करें तो गढ़वा से पहले बीजेपी के टिकट पर चुनाव लड़ चुके अलख नाथ पांडेय फिर से 2019 में पार्टी के टिकट पर ताल ठोकने को तैयार हैं. अलख नाथ गढ़वा में बीजेपी को मजबूती देने का दावा करते हैं साथ ही खुद को अनुशासित सिपाही भी बताते हैं तो गढ़वा से ही बीजेपी के टिकट की आस लगाए भगत सिंह साहू को भरोसा है कि उन्हें पार्टी टिकट देगी. 

चुनाव जीतने को लेकर भगत सिंह कहते हैं इस क्षेत्र में उम्मीदवार बदलने का फायदा बीजेपी को सीट पर मजबूत जीत के रूप में मिलेगा. झारखंड में विधानसभा चुनाव को लेकर बीजेपी 65 पार के लक्ष्य को हासिल करने के लिए उम्मीदवारों का चयन ठोक बजाकर करना चाहती है. 

गढ़वा विधानसभा में भी उम्मीदवार अपने अपने तरीके से टिकट को लेकर ताल ठोक रहे हैं और हे उम्मीदवार अपने अपने गणित के आधर पर जीत का दम्भ भर रहे हैं.