बिहार: 11 अक्टूबर से नाबालिग लड़की गायब, परिजनों ने लगाया पुलिस पर लापरवाही का आरोप

 एसपी सिटी कहना है कि मामला अब उनके संज्ञान में आया है. पुलिस लगातार नाबालिग लड़की को खोजने का प्रयास कर रही है. साथ ही आरोपियों की गिरफ्तारी को लेकर लगातार छापेमारी की जा रही है.

बिहार: 11 अक्टूबर से नाबालिग लड़की गायब, परिजनों ने लगाया पुलिस पर लापरवाही का आरोप
पुलिस अधिकारी का कहना है कि लड़की को खोजने का प्रयास किया जा रहा है.

पटना: बिहार मे अपराध चरम पर है और जनता दहशत में है. भले ही बिहार पुलिस जनता की सुरक्षा के तमाम दावे करती हो, लेकिन ये दावे हवा-हवाई साबित हो रहे हैं. मामला पटना सिटी के आलम गंज थाना क्षेत्र के चैली टाल के न्या गांव का है. यहां 11 अक्टूबर को 16 वर्षीय एक नाबालिग लड़की रहस्मय ढंग से गायब हो गई थी. लेकिन अब तक उसका कोई सुराग नहीं मिल पाया है.

इसके बाद पीड़ित परिजन मामलें कि शिकायत कराने थाने पहुंचे थे, लेकिन पुलिस ने मामला दर्ज करने के बजाए परिजनों को थाने से फटकार लगाकर भगा दिया. फिर वरिष पुलिस अधीक्षक से मामले की शिकायत करने पर केस दर्ज हुआ. हालांकि अभी तक पुलिस नाबालिग लड़की का सुराग पता नहीं लगा पाई है.

वहीं, परिजनों का आरोप है कि उन्होनें पुलिस को बताया कि मालसलामी थाना क्षेत्र का रहने वाला सोनू पीड़िता के पीछे पड़ा था और तख्त हरिमंदिर के पास से उसको को बहला फुसला कर ले गया था. इसके बाद से नाबालिग गायब है. लेकिन पुलिस ने आरोपियों पर अब तक कोई कार्रवाई नहीं की है. परिजनों का आरोप है कि पुलिस ने अभी तक अपराधियों के खिलाफ कोई एक्शन नहीं लिया है.
 
वहीं, एसपी सिटी कहना है कि मामला अब उनके संज्ञान में आया है. पुलिस लगातार नाबालिग लड़की को खोजने का प्रयास कर रही है. साथ ही आरोपियों की गिरफ्तारी को लेकर लगातार छापेमारी की जा रही है. आपको बता दें कि बिहार में लगातार क्राइम के बढ़ते ग्राफ को लेकर विपक्ष राज्य सरकार पर हमला बोल रहा है. विपक्ष का कहना है कि सरकार कानून व्यवस्था पूरी तरह नाकाम साबित हुई है.

Preeti Negi, News Desk