close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बिहार: जल नल योजना पर जनप्रतिनिधी के साथ अधिकारियों पर भी हो कार्रवाई, कई MLA ने की मांग

सात निश्चय योजना को बिहार सरकार प्रदेश का चेहरा बदलने वाला मानती है. इसी के तहत प्रदेश के हर घर को नल का जल पहुंचाने का लक्ष्य अप्रैल 2020 रखा गया है. 

बिहार: जल नल योजना पर जनप्रतिनिधी के  साथ अधिकारियों पर भी हो कार्रवाई, कई MLA ने की मांग
सत्तापक्ष के कई विधायकों का कहना है कि ये योजना भ्रष्टाचार का पर्याय बनती जा रही है.

पटना: बिहार सरकार की हर घर जल नल योजना जन प्रतिनिधि बनाम अधिकारी बनती जा रही है. सत्तापक्ष के कई विधायकों का कहना है कि ये योजना भ्रष्टाचार का पर्याय बनती जा रही है. इसमें जन प्रतिनिधियों पर कार्रवाई हो रही है, लेकिन अधिकारियों को छोड़ दिया जा रहा है. अधिकारियों पर भी कार्रवाई होनी चाहिए. 

सात निश्चय योजना को बिहार सरकार प्रदेश का चेहरा बदलने वाला मानती है. इसी के तहत प्रदेश के हर घर को नल का जल पहुंचाने का लक्ष्य अप्रैल 2020 रखा गया है. योजना में भ्रष्टाचार का मुद्दा पहले से उठता रहा है, विपक्षी सदस्यों की ओर से लगातार इसको उठाया जाता रहा है.

बुधवार को बीजेपी के विधायक मिथिलेश तिवारी से हर घर नल का जल का मुद्दा सदन में उठाया और कहा कि इसमें भ्रष्टाचार के जो मामले सामने आ रहे हैं. उनमें जन प्रतिनिधियों पर कार्रवाई हो रही है, जबकि अधिकारियों को छोड़ दिया जा रहा है. उन्होंने कहा कि योजना में बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार है, जिसकी जांच होनी चाहिए. 

सत्तापक्ष के विधायक की ओर से उठाए गए सवाल का विपक्षी समर्थन कर रहे हैं. इनका कहना है कि योजना के क्रियान्वयन में जन प्रतिनिधि का कोई योगदान नहीं होता है. सरकार की मिलीभगत के कारण जन प्रतिनिधियों को निशाना बनाया जा रहा है. 

जिस तरह से हर घर नल का जल योजना को लेकर सवाल उठ रहे हैं, उससे साफ है कि योजना के क्रियान्वयन में गड़बड़ी हो रही है, जिसके जांच की जरूरत है, ताकि योजना सही तरह से लागू हो सके.