कोरोना स्थिति को लेकर बिहार सरकार गंभीर, राज्य में 21 लाख से अधिक प्रवासी आए

अनुपम कुमार ने कहा कि, रोजगार सृजन पर सरकार का विशेष ध्यान है और सभी संबंधित विभाग रोजगार सृजन को लेकर किए जा रहे कार्यों की निरंतर गहराई से अनुश्रवण कर रहे हैं.

 कोरोना स्थिति को लेकर बिहार सरकार गंभीर, राज्य में 21 लाख से अधिक प्रवासी आए
कोरोना स्थिति को लेकर बिहार सरकार गंभीर, राज्य में 21 लाख से अधिक प्रवासी आए.

पटना: सूचना एवं जन-संपर्क सचिव अनुपम कुमार ने बताया कि, कोरोना संक्रमण की वर्तमान स्थिति को लेकर लगातार समीक्षा की जा रही है. मुख्यमंत्री द्वारा भी प्रतिदिन उसकी गहन समीक्षा होती है. क्राइसिस ग्रुप मैनेजमेंट की बैठक में मुख्य सचिव द्वारा एवं अन्य बैठकों में कोरोना संक्रमण की निरंतर समीक्षा कर, सभी आवश्यक कार्रवाई की जा रही है.

अनुपम कुमार ने कहा कि, मुख्यमंत्री द्वारा पथ निर्माण विभाग एवं जल संसाधन विभाग की महत्वपूर्ण योजनाओं का उद्घाटन एवं शिलान्यास किया गया.  मुख्यमंत्री द्वारा मोतिहारी जिले में सत्तर घाट पुल का उद्घाटन, लखीसराय बाईपास का उद्घाटन, जल संसाधन विभाग के अंतर्गत कुंदर बैराज का लोकार्पण, सासाराम शहर के बाईपास का शिलान्यास सहित अन्य कई महत्वपूर्ण योजनाओं का उद्घाटन एवं शिलान्यास किया गया.
   
सूचना सचिव अनुपम कुमार ने बताया कि, मुख्यमंत्री आपदा राहत कोष से मुख्यमंत्री विशेष सहायता योजना के अंतर्गत लॉकडाउन (Lockdown) के कारण बाहर फंसे बिहार के 20 लाख 94 हजार 726 लोगों के खाते में प्रति व्यक्ति 1,000 रुपए की सहायता राशि भेजी जा चुकी है.

उन्होंने कहा कि, फरवरी, मार्च और अप्रैल माह में असामयिक वर्षापात और ओलावृष्टि के कारण किसानों की हुई फसल क्षति के लिए कृषि इनपुट अनुदान के तहत, अभी तक 16 लाख 30 हजार किसानों के खाते में 511 करोड़ रुपए की राशि डीबीटी (DBT) के माध्यम से अंतरित की जा चुकी है. शेष किसानों के आवेदनों का निष्पादन तेजी से किया जा रहा है और जांचोपरांत यथाशीघ्र कृषि इनपुट अनुदान की राशि, प्रभावित किसानों के खाते में भेज दी जाएगी.

अनुपम कुमार ने कहा कि, रोजगार सृजन पर सरकार का विशेष ध्यान है और सभी संबंधित विभाग रोजगार सृजन को लेकर किए जा रहे कार्यों की निरंतर गहराई से अनुश्रवण कर रहे हैं. लॉकडाउन पीरियड से लेकर अभी तक 4 लाख 55 हजार से अधिक योजनाओं के अंतर्गत लगभग 6 करोड़ 90 लाख मानव दिवसों का सृजन किया जा चुका है.

उन्होंने कहा कि, अभी तक 1,526 श्रमिक स्पेशल ट्रेनों के माध्यम से 21 लाख 40 हजार 153 लोग बिहार आए हैं. 18 जून तक 10 ट्रेनें शिड्यूल्ड है, जिनके माध्यम से 16 हजार लोगों के बिहार आने की संभावना है.