close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बिहार: SHO की अनोखी पहल, ऑटो वालों की मदद से अपराध पर लगाम लगाने की तैयारी

एसएचओ का मानना है कि ऑटो चालक रात-दिन सड़कों पर रहते हैं, ऐसे में उनकी सजगता से अपराध और अपराधियों पर वक्त रहते लगाम लगाई जा सकती है. 

बिहार: SHO की अनोखी पहल, ऑटो वालों की मदद से अपराध पर लगाम लगाने की तैयारी
एसएचओ मुकेश चंद्र ने अब एक और नई पहल की है.

पंकज, मोतिहारी: बिहार के मोतिहारी (Motihari) में चालान काटने के बजाए लोगों से हेलमेट खरीदवाने को लेकर चर्चा में आए छतौनी एसएचओ मुकेश चंद्र ने अब एक और नई पहल की है. इस बार थानाध्यक्ष ने इलाके के ऑटो चालकों को सोशल पुलिस बनाकर न सिर्फ यात्रियों की सुरक्षा का प्रबंध किया है, बल्कि इलाके में अपराध की रोकथाम में रात-दिन सड़कों पर रहने वाले ऑटो चालकों को पुलिस का मददगार भी बनाया है. 

जब देश में नए ट्रैफिक नियमों (New Traffic Rules) के बाद पुलिस लोगों का भारी भरकम चालान काट रही थी, तब मोतिहारी के छतौनी थानाध्यक्ष मुकेश चन्द्र कुंवर लोगों को ट्रैफिक नियम तोड़ने पर चालान के रुपयों के बदले थाना पर हेलमेट खरीदवा रहे थे और गाड़ी का इन्श्योरेंस करवा रहे थे.

अब मुकेश चंद्र ने अपराध रोकने के लिए ऑटो चालकों को पुलिस का मददगार बनाया है. दरअसल, ऑटो चालक रात-दिन सड़कों पर रहते हैं, ऐसे में उनकी सजगता से अपराध और अपराधियों पर वक्त रहते लगाम लगाई जा सकती है. इसके अलावा सड़कों पर घायल लोगों को एम्बुलेंस के पहुंचने से पहले अस्पताल पहुंचाने में मददगार बनाने का पाठ भी पढ़ाया है. 

खास कोड से ऑटो की पहचान
छतौनी थाना के ऑटो स्टैण्ड से गुजरने वाली प्रत्येक ऑटो पर एक कोड लिखा गया है. थाने में ऑटो चालकों के सभी कागजात जमा कर उनके ऑटो और वर्दी पर C-1 से लेकर C-150 तक कोड अंकित किया गया है. इससे अपराध या दुर्घटना की स्थिति में ऑटो चालक की आसानी से पहचान हो सकेगी. थानाध्यक्ष मुकेश की इस अनोखी पहल से इलाके के ऑटो चालक भी गदगद हैं. ऑटो चालक संघ ने भी पुरजोर समर्थन के साथ इस पहल का स्वागत किया है.

-- Karan, News Desk