बिहारः 20 सालों से नहीं बना सड़क और पुल, ग्रामीणों ने कहा- 'सड़क नहीं तो वोट नहीं'

 स्वर्णडीह गांव के लोग 20 सालों से पुल और सड़क नहीं बनने से नाराज हैं. 

बिहारः 20 सालों से नहीं बना सड़क और पुल, ग्रामीणों ने कहा- 'सड़क नहीं तो वोट नहीं'
मुंगेर के स्वर्णडीह के ग्रामीणों ने वोट बहिष्कार की धमकी दी है.

मुंगेरः चुनाव आयोग मतदाताओं को जागरुक करने में लगा है. मतदाताओं को बताया जा रहा है कि उनका वोट कीमती है वह हर हाल में वोट करें. लेकिन दूसरी ओर अपने सांसदों ओर विधायकों से नाराज होकर वोट का बहिष्कार करने की धमकी दे रहे हैं. मतदाताओं का कहना है कि जब क्षेत्र में कोई काम ही नहीं करता तो वोट किसको दें.

ताजा मामला बिहार के मुंगेर जिले का है. जहां स्वर्णडीह के लोगों ने नारा दिया है 'सड़क नहीं तो वोट नहीं'. अनुमंडल के पढ़वाडा पंचायत के स्वर्णडीह के ग्रामीण नेताओ के वादाखिलाफी के विरुद्ध लोकसभा चुनाव में वोट का बहिष्कार करेंगे. गांव के सभी ग्रामीणों ने एकजुट होकर स्वर्णडीह स्थित विद्युत कार्यालय के समीप सड़क नहीं तो वोट नहीं का नारा लगाया.

स्थानीय ग्रामीणों ने बताया कि स्थानीय जनप्रतिनिधियों व सांसद एवं पदाधिकारियों की उपेक्षा के कारण ग्रामीणों ने इस लोकसभा चुनाव में वोट बहिष्कार का निर्णय लिया है. ग्रामीणों ने यह भी कहा कि विधायक से लेकर सांसद तक सबने ग्रामीणों को ठगा है. अगर यही स्थिति रहा तो लोकसभा के बाद भी सभी चुनावों में ग्रामीण जनता वोट नहीं करेंगे. 

बताया जाता है कि स्वर्णडीह गांव के लोग 20 सालों से पुल और सड़क नहीं बनने से नाराज हैं. सड़क नहीं बनने से ग्रामीणों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. सड़क एवं पुल के अभाव में नदी में पानी आ जाने से लोगों को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है.

ग्रामीणों ने कहा की चुनाव के समय नेता बड़े-बड़े वायदे करते हैं, लोगों को विकास के हवा-हवाई सपने दिखाकर वोट मांगते हैं, परंतु चुनाव खत्म होते ही सारे वायदे धरे रह जाते है. विधायक और सांसद सबने ग्रामीणों को ठगा है. वहीं, ग्रामीणों ने कहा कि लोकसभा चुनाव में अधिकारियों के द्वारा कितनी भी दबाव क्यों ना बना लें, लेकिन हम सभी ग्रामीण जब तक गांव में सड़क और पुल नहीं बन जाता तबतक मतदान का बहिष्कार करते रहेंगे.