बगहा: हेल्थ वर्कर को देख भाग रहे हैं ग्रामीण, गांव में वैक्सीन सेंटर होने पर भी नहीं लगवा रहे टीका

Bagha Samachar: प्रशासन द्वारा जागरूकता अभियान चलाने के बावजूद ग्रामीण वैक्सीन नहीं ले रहे है.

बगहा: हेल्थ वर्कर को देख भाग रहे हैं ग्रामीण, गांव में वैक्सीन सेंटर होने पर भी नहीं लगवा रहे टीका
कोरोना वैक्सीन लगाने आई हेल्थवर्कर को देख भागी महिला व पुरूष ने भी टीका लगाने से किया इनकार

Bagha: बगहा अनुमंडल से एक बड़ी खबर सामने आ रही है. दरअसल, अनुमंडल में एक ऐसा गांव है जहां अफवाहों के शिकार होकर लोग वैक्सीन नहीं ले रहे हैं.रामनगर के फुलवरिया गांव के ग्रामीण टीकाकरण स्थल पर नहीं आ रहे हैं.

यही वजह है कि रामनगर प्रखंड के भावल पंचायत के मसान फुलवरिया गांव में प्रशासन लगातार जागरूकता अभियान चला रही है. बावजूद ग्रामीण वैक्सीन नहीं ले रहे है. शनिवार को पीएचसी के स्वास्थ कर्मी टीकाकरण के लिए गांव में कैम्प लगाए थे, लेकिन गांव में टीकाकरण के लिए सुबह दस बजे से चार बजे शाम तक बैठने के बावजूद स्वास्थ्य कर्मी के पास टीका लगवाने के लिए कोई भी ग्रामीण नहीं आया.

इसके बाद स्वास्थ्य कर्मी बिना टिका दिए गांव से वापस चले आये है. फुलवरिया राजकीय मध्य विद्यालय में कैम्प लगाया गया था. स्वास्थ्य कर्मी द्वारा घर-घर जाकर ग्रामीणों से आग्रह किये जाने के बावजूद भी ग्रामीण वैक्सीन लेने नहीं पहुंचे.

घर-घर जाकर स्वास्थ्यकर्मी ने लोगों से आग्रह किया कि चलिए टीका ले लीजिये. सरकार ने आपके दरवाजे पर सेवा भेजी है. इस दौरान एक शख्स ने हेल्थ वर्कर से कहा कि मैं टीका नहीं लूंगा. आज तक मुझे बुखार नहीं हुआ है.

कर्मी ने शख्स से कहा कि टीका लेने पर आप भविष्य में भी सुरक्षित रहिएगा लेकिन ग्रामीण ने वैक्सीन लेने से साफ इनकार कर दिया. महिला स्वास्थ्यकर्मी ने घरों में जाकर महिलाओं से वैक्सीन लगवाने का आग्रह किया लेकिन सभी ने नकार दिया. 

ये भी पढ़ें- जीतन राम मांझी के पंचायत चुनाव पर दिए बयान के बाद सियासत तेज, पूर्व CM को मिला RJD का साथ

रामनगर पीएचसी प्रभारी डॉक्टर चंद्रभूषण ने बताया कि गांव के लोगों को जागरूक किया गया, उसके बावजूद भी ग्रामीण वैक्सीन नहीं ले रहे हैं.

उन्होंने कहा  कि गांव में कैम्प भी लगाया गया उसके बावजूद भी कोई ग्रामीण टीकाकरण स्थल पर नहीं पहुंचे जो चिंता का विषय है. किन कारणों से ग्रामीण वैक्सीन नहीं ले रहे हैं उसकी जांच की जा रही है पता लगाया जा रहा है और जागरूक कर ग्रामीणों को वैक्सीन दिया जाएगा.

(इनपुट- धनंजय द्विवेदी)