बेतिया में Yaas तूफान का आंतक! बांध टूटने से किसानों की फसल बर्बाद

Bettiah Samachar: बांध के टूटने से हुई क्षति को लेकर ग्रामीणों और किसानो ने गंडक परियोजना व जल संसाधन विभाग के खिलाफ नाराजगी व्यक्त की हैं.

 बेतिया में Yaas तूफान का आंतक! बांध टूटने से किसानों की फसल बर्बाद
बेतिया में Yaas तूफान का आंतक! (प्रतीकात्मक तस्वीर)

Bettiah: बेतिया के नरकटियागंज में यास (Yaas) तूफान का व्यापक असर देखने को मिला है. यहां दो दिन से लगातार हो रही बारिश के कारण त्रिवेणी कैनाल के उपवितरणी नहर का बांध टूट गया है. इसके कारण सैकड़ो एकड़ खेत में अचानक पानी घूस गया हैं और इलाके में बाढ़ जैसे हालात हो गए हैं.

 

ये भी पढ़ेंः  Bihar में ‘यास‘ तूफान से हाशिये पर रेल सुविधा! कई जगहों पर ट्रेनों का आवागमन बाधित

आलम यह है कि नरकटियागंज के कुंडिलपुर में उपवितरणी नहर का बांध टूट जाने से गौनाहा प्रखंड क्षेत्र के दोमाठ पंचायत से डुमरिया गांव जाने वाली मुख्य सड़क पर बना पुलिया ध्वस्त हो गया हैं. इससे इस मार्ग पर आवागमन पूरी तरह बाधित हो गया है.

वहीं, उपवितरणी नहर का बांध टूटने से जमुआ व मनियारी नदी का पानी तेजी से खेतो में घूस गया हैं. इससे किसानों की परेशानी बढ़ गई हैं और फसल पूरी तरह बर्बाद हो गई हैं. बांध के टूटने से हुई क्षति को लेकर ग्रामीणों और किसानो ने गंडक परियोजना व जल संसाधन विभाग के खिलाफ नाराजगी व्यक्त की हैं.

इधर, ग्रामीणों ने आरोप लगाया है कि 'पिछले वर्ष आई बाढ़ के बाद भी विभाग द्वारा कोई उचित कार्रवाई नहीं की गई. इसके कारण बांध टूटा हैं. जबकि ग्रामीणों ने नहर विभाग में नीचे से लेकर ऊपर तक के पदाधिकारीयों के साथ-साथ स्थानिए जनप्रतिनिधि को भी काम कराने का आग्रह किया था. लेकिन काम नहीं कराया गया.'

ये भी पढ़ेंः Bihar: Cyclone Yaas की वजह से 7 की मौत, सूबे में भारी तबाही; मुआवजे का ऐलान

किसानो ने कहा कि 'हजारों एकड़ भूमी में लगी धान व गन्ने का बिचड़ा पूरी तरह से बर्बाद हो गया हैं और कोई सुनने वाला नहीं हैं. बता दें कि 2017 में भी इस इलाके में प्रलयंकारी बाढ़ आई थी और पिछले साल भी लोग बाढ़ की त्रासदी झेले थे. बावजूद इसके भी बाढ़ व नदियों की सुरक्षा को लेकर प्रशासन द्वारा कोई उचित कार्रवाई नहीं की गई हैं. 

(इनपुट-इमरान अज़ीज)