Bettiah: बाढ़ भी नहीं रोक सका दूल्हे का 'दीवानापन', कुछ इस तरह लेने पहुंचा अपनी दुल्हनिया

पश्चिम चम्पारण जिला इस समय बाढ़ का कहर झेल रहा है. इस दौरान हर तरफ बाढ़ ने हाहाकार मचा रखा है. लेकिन इस दौरान भी जिले एक अनोखी शादी हुई है. जहां दूल्हे ने बाढ़ की चिंता न करते हुए शादी की.  दरअसल, नरकटियागंज लौरिया मुख्य पथ पर सिकरहना नदी कोहराम मचा रही हैं.

Bettiah: बाढ़ भी नहीं रोक सका दूल्हे का 'दीवानापन', कुछ इस तरह लेने पहुंचा अपनी दुल्हनिया
बाढ़ भी नहीं रोक सका दूल्हे का दीवानापन. (प्रतीकात्मक फोटो)

Bettiah: पश्चिम चम्पारण जिला इस समय बाढ़ का कहर झेल रहा है. इस दौरान हर तरफ बाढ़ ने हाहाकार मचा रखा है. लेकिन इस दौरान भी जिले एक अनोखी शादी हुई है. जहां दूल्हे ने बाढ़ की चिंता न करते हुए शादी की. दरअसल, नरकटियागंज लौरिया मुख्य पथ पर सिकरहना नदी कोहराम मचा रही हैं. जिस वजह से नवनिर्मित डायवर्सन भी तेज बहाव में बह गया हैं. जिसके कारण इस पथ पर आवागमन पूरी तरह से ठप्प हो गया है. इस दौरान लौरिया थानाक्षेत्र के गोनौली-डूमरा पंचायत के परोराहा निवासी अखिलेश मिश्र के इंजीनियर पुत्र अरविंद कुमार मिश्र की बारात जानी थी. शादी की लग्न आज होने की वजह से सारी तैयारी भी पूरी कर ली गई थी. 

इसके बाद सभी ग्रामीण लोग इकट्ठा हुए.उन्होंने एक नाव की व्यवस्था की. जिसमें वो बारात लेकर चल दिए. इस दौरान बाराती नाव पर बैठकर बगहा के सिसवा बसंतपुर, जमदरटोला होते हुए करीब 10 किलोमीटर नौकायान कर मुख्य सड़क इंग्लिशिया पहुंचे. फिर लौरिया नरकटियागंज मार्ग में डायवर्सन ध्वस्त होने के कारण रामनगर के रास्ते नरकटियागंज होते हुए गोबरौरा गांव के रास्ते पांडेयटोला बारात लेकर पहुंचे. 

ये भी पढ़ें: झारखंड: कोरोना महामारी में अनाथ हुए बच्चों को गोद लेगा CWC, हेमंत सरकार ने मदद के लिए बढ़ाया हाथ

दूल्हा के भाई विकास मिश्र, चाचा अमीन भूपेंद्र मिश्र ने बताया कि बाढ़ से लोगों को बहुत परेशानी हुई है. अब बारात वापस चनपटिया के रास्ते ले जाना पड़ेगा. बाढ़ का कोहराम अभी भी जारी हैं, ऐसे में अगर हालात नहीं सुधरे तो दुल्हे को दुल्हन के साथ घर तक पहुंचने में भी नाव का हीं सहारा लेना पड़ेगा.

(इनपुट: इमरान)