हल्की बारिश से कीचड़ में तब्दील हो जाती हैं यहां की सड़कें, भगवान के भरोसे जीते हैं लोग, अधिकारी खामोश

बरसात के दिनों में अगर किसी की तबीयत खराब हो जाए तो फिर ग्रामीण भगवान का नाम लेकर ही मौत से जिंदगी की जंग लड़ते हैं.  

हल्की बारिश से कीचड़ में तब्दील हो जाती हैं यहां की सड़कें, भगवान के भरोसे जीते हैं लोग, अधिकारी खामोश
हल्की बारिश से कीचड़ में तब्दील हो जाती हैं यहां की सड़कें. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

Bettiah: पश्चिम चंपारण जिले के नरकटियागंज में गौनाहा पंचायत के रतनी टाड़ी गांव वार्ड नंबर के लोगों को घर से निकलने के लिए रास्ता नहीं है. यहां बारिश के बाद सड़क किचड़मय हो जाती है जिसके कारण बरसात के दिनों में सभी लोग घर में कैद हो जाते हैं.

हद तो यह है कि बरसात के दिनों में अगर किसी की तबीयत खराब हो जाए तो फिर ग्रामीण भगवान का नाम लेकर ही मौत से जिंदगी की जंग लड़ते हैं. वहीं, अपनी इस परेशानी को लेकर ग्रामीणों ने जलजमाव के कारण किचड़ में तब्दील हो चुके के जिर्णोद्धार के लिए विरोध प्रदर्शन किया. 

आक्रोशित ग्रामीणों ने बताया कि कच्ची सड़क होने के कारण ओमप्रकाश यादव के घर से ध्रुव यादव के घर तक करीब एक किलोमीटर सड़क हल्की बारिश होने के बाद किचड़ में तब्दील हो जाती है. जिसके कारण सड़क पर चार पहिया वाहन तथा दो पहिया वाहन का चलना भी मुश्किल हो जाता हैं.

ये भी पढ़ें- Birth Anniversary of George Fernandes: सियासत के शाश्वत बागी थे जॉर्ज

आलम यह है कि इस सड़क पर पैदल चलना भी कठीन हो जाता हैं. आक्रोशित ग्रामीणों ने बताया कि स्थानीय मुखिया, प्रमुख, विधायक, सांसद व प्रखंड कार्यालय के चक्कर लगाते-लगाते थक चुके हैं लेकिन कोई सुनने के लिए तैयार नहीं हैं. गांव के ग्रामीण ने सुबह स्थानीय मुखिया जमीला खातुन व मुखिया पति को अनुवारूल हक से अपना दर्द सुनाते हुए आक्रोश जताया.

वहीं, स्थानीय ग्रामीणों ने इस संबंध में एक आवेदन बीडीओ अजय प्रकाश राय को देते हुए उक्त सड़क में मिट्टी भराई, ईट सोलिंग, तथा पीसीसी कराने की मांग की तो मुखिया जमीला खातुन ने भी रतनी टाड़ी के ग्रामीणों की शिकायत को जायज ठहराया. 

हालांकि, बीडीओ ने कहा कि आवेदन अभी प्राप्त नहीं हुआ है. आवेदन मिलने के बाद सड़क के जीर्णोद्धार का प्रयास किया जाएगा. इस मामले में पीओ मकबूल कलाम ने इसकी जांच कर मनरेगा के तहत सड़क निर्माण कार्य शुरू करने का भरोसा दिलाया है.

अब देखने वाली बात होगी कि पंचायत का कार्यकाल पूरा होने पर जिला परामर्श समिति द्वारा संचालित विकास की योजनाओं को महादलित टोला में कब तक धरातल पर उतारने में जिला प्रशासन कामयाब होता है, जिसका लोगों को बेसब्री से इंतजार है.

(इनपुट- इमरान अज़ीज़)